न दिखने वाला टेक्स्ट और लिंक

अगर आप Google के खोज के नतीजों में अपने पेज की रैंकिंग में हेरफेर करने के लिए, अपने कॉन्टेंट में टेक्स्ट या लिंक को छिपाते हैं, तो इसे धोखाधड़ी के तौर पर देखा जा सकता है. इतना ही नहीं, इसे Google की वेबमास्टर गाइडलाइन का उल्लंघन माना जाता है. टेक्स्ट (जैसे कि बहुत सारे कीवर्ड) कई तरीकों से छिपाए जा सकते हैं. इनमें ये तरीके शामिल हैं:

  • सफ़ेद बैकग्राउंड पर सफ़ेद टेक्स्ट का इस्तेमाल करना
  • टेक्स्ट को इमेज के पीछे रखना
  • टेक्स्ट को ऑफ़-स्क्रीन पोज़िशन करने के लिए, सीएसएस का इस्तेमाल करना
  • फ़ॉन्ट साइज़ को 0 पर सेट करना
  • लिंक को सिर्फ़ एक छोटे वर्ण से लिंक करके छिपाना—उदाहरण के लिए, किसी पैराग्राफ़ के बीच में कोई हाइफ़न लगाकर लिंक करना

यह देखने के लिए कि आपकी साइट में, न दिखने वाले टेक्स्ट या लिंक शामिल हैं या नहीं, किसी भी ऐसी चीज़ को ढूंढ़ें जिसे आपकी साइट पर आने वाले लोग आसानी से नहीं देख पाते. क्या कोई टेक्स्ट या लिंक ऐसा भी है जो वेबसाइट पर आने वाले लोगों के बजाय, सिर्फ़ सर्च इंजन को दिखता है?

हालांकि, न दिखने वाले सारे टेक्स्ट को धोखाधड़ी वाले टेक्स्ट के तौर पर नहीं माना जाता. उदाहरण के लिए, अगर आपकी साइट में ऐसी टेक्नोलॉजी शामिल हैं जिन्हें ऐक्सेस करने में सर्च इंजन को दिक्कत हो रही है, जैसे कि JavaScript, इमेज या फ़्लैश फ़ाइलें, तो इन आइटम के लिए जानकारी देने वाले टेक्स्ट का इस्तेमाल करके आपकी साइट की सुलभता को बेहतर बनाया जा सकता है. याद रखें कि स्क्रीन रीडर, मोबाइल ब्राउज़र, बिना प्लग-इन वाले ब्राउज़र, और धीमे कनेक्शन का इस्तेमाल करने वाले कई लोग उस कॉन्टेंट को देख नहीं पाएंगे और उन्हें जानकारी देने वाले टेक्स्ट का ही इस्तेमाल करना पड़ेगा. आप अपने ब्राउज़र में JavaScript, फ़्लैश, और इमेज को बंद करके या सिर्फ़ टेक्स्ट वाले ब्राउज़र, जैसे कि Lynx का इस्तेमाल करके, अपनी साइट की सुलभता की जांच कर सकते हैं. आपकी साइट को सभी आसानी से ऐक्सेस कर पाएं, इसके लिए कुछ तरीके यहां दिए गए हैं:

  • इमेज: जानकारी देने वाले टेक्स्ट के लिए, ऑल्ट एट्रिब्यूट का इस्तेमाल करें. साथ ही, हम इमेज के आस-पास ऐसे कैप्शन और जानकारी देने वाला टेक्स्ट इस्तेमाल करने का सुझाव देते हैं जिन्हें आसानी से पढ़ा जा सके. इमेज प्रकाशित करने के बारे में ज़्यादा जानने के लिए, यह लेख देखें.
  • JavaScript: JavaScript से <noscript> टैग में एक जैसा कॉन्टेंट डालें. अगर इस तरीके का इस्तेमाल करते हैं, तो पक्का करें कि कॉन्टेंट बिल्कुल वैसा ही हो जैसा JavaScript में शामिल किया गया है. इस कॉन्टेंट को वेबसाइट पर आने वाले उन लोगों को दिखाया जाता है जिनके ब्राउज़र में JavaScript चालू नहीं होती है.
  • वीडियो: वीडियो के बारे में, एचटीएमएल में जानकारी देने वाला टेक्स्ट शामिल करें. आप ट्रांसक्रिप्ट भी दे सकते हैं. वीडियो प्रकाशित करने के बारे में ज़्यादा जानने के लिए, यह लेख देखें.