खोज के नतीजों में अपना वीडियो दिखाने के सबसे सही तरीके

Google पर हर दिन अरबों खोज की जाती हैं, जिनमें कई खोज वीडियो के लिए होती हैं. यहां बताए गए सबसे अच्छे तरीके और हमारी सामान्य वेबमास्टर गाइडलाइन फ़ॉलो करने से, खोज नतीजों में आपके वीडियो के दिखने की संभावना बढ़ सकती है.

Google Search के नतीजों में वीडियो, एक साथ दिखने वाले कई तरह के खोज नतीजों और वीडियो खोज नतीजों, दोनों में दिखते हैं. जब कोई उपयोगकर्ता नतीजे में दिखाए गए वीडियो पर क्लिक करता है, तो उसे आपके पेज पर ले जाया जाता है. यहां वह आपका वीडियो देख सकता है.

Google का वीडियो को क्रॉल करने का तरीका

किसी वीडियो को खोज नतीजों में दिखाने के लिए, यह ज़रूरी है कि Google को उस वीडियो के बारे में कुछ बातें पता हों. इन तरीकों से Google किसी वीडियो के बारे में जानकारी ले सकता है:

  • Google किसी वीडियो को क्रॉल कर सकता है (अगर Google के हिसाब से वीडियो की एनकोडिंग है) और उसका थंबनेल और झलक ऐक्सेस कर सकता है. Google किसी फ़ाइल के ऑडियो और वीडियो का इस्तेमाल करके भी उससे जुड़ी कुछ जानकारी ले सकता है.
  • Google, वीडियो को होस्ट करने वाले पेज से जानकारी ले सकता है. इसमें पेज का टेक्स्ट और मेटा टैग जैसी जानकारी भी शामिल होती है.
  • Google, वीडियो का स्ट्रक्चर्ड डेटा (VideoObject) या वीडियो साइटमैप का इस्तेमाल कर सकता है.
YouTube कॉन्टेंट: YouTube पर मौजूद सभी वीडियो ऐसे होते हैं जिन्हें क्रॉल किया जा सकता है. हालांकि, अच्छा होगा कि आप वीडियो साइटमैप या स्ट्रक्चर्ड डेटा दें. इससे Google को आपके पेज पर एम्बेड किया गया YouTube वीडियो ढूंढने में आसानी होगी. साइटमैप और स्ट्रक्चर्ड डेटा की मदद से, आप हमें वीडियो के बारे में ज़्यादा जानकारी दे सकते हैं.

खोज नतीजों में वीडियो दिखाए जाने के बारे में जानकारी

अपने वीडियो के बारे में आप Google को जो जानकारी देते हैं उससे यह तय होता है कि आपका वीडियो खोज नतीजों में दिखेगा या नहीं. साथ ही, इससे यह भी तय होता है कि वीडियो खोज के नतीजों में कैसे दिखेगा. आपके वीडियो को खोज नतीजों में दिखाने के लिए, Google को दो तरह की जानकारी की ज़रूरत होती है: पहला थंबनेल इमेज और दूसरा, वीडियो की मूल फ़ाइल का लिंक. हालांकि, आप जितनी ज़्यादा जानकारी देते हैं, आपका वीडियो खोज नतीजों में उतना बेहतर तरीके से दिखता है.

खोज नतीजे में वीडियो दिखने के ये दो बुनियादी तरीके हैं:

  • सामान्य रूप से दिखना: अगर आप Google को कम से कम जानकारी देते हैं, तो आपका वीडियो, एक साथ दिखने वाले कई तरह के खोज नतीजों और वीडियो खोज नतीजों में दिख सकता है. वीडियो, खोज के इन नतीजों में थंबनेल इमेज और लिंक के साथ दिख सकता है. इसमें आपको वीडियो की झलक देखने या वीडियो को पार्स करने जैसी बेहतर सुविधाएं नहीं मिलेंगी. कम से कम जानकारी में, थंबनेल इमेज और वीडियो फ़ाइल का लिंक शामिल होता है.


    सामान्य खोज नतीजों में दिखने वाले वीडियो का उदाहरण

  • बेहतर सुविधाओं के साथ दिखना: अगर आप ज़्यादा जानकारी देते हैं, तो Google आपके वीडियो को ज़्यादा सुविधाओं के साथ दिखा सकता है. इनमें वीडियो की झलक, वीडियो की अवधि, वीडियो किसने अपलोड किया, और अपलोड करने की तारीख के बारे में जानकारी शामिल होती है. साथ ही, उपयोगकर्ता के देश या डिवाइस के हिसाब से खोज नतीजे दिखाने की सुविधा और ऐसी ही दूसरी सुविधाएं मिलती हैं.

    डेस्कटॉप पर दिखने वाले वीडियो के खोज नतीजे का उदाहरण
    डेस्कटॉप पर बेहतर रूप से दिखने वाले वीडियो के खोज नतीजों का उदाहरण

    मोबाइल पर दिखने वाले वीडियो के खोज नतीजे का उदाहरण
    मोबाइल पर बेहतर रूप से दिखने वाले वीडियो के खोज नतीजे का उदाहरण

सबसे सही तरीके

वीडियो को खोज नतीजे के तौर पर दिखाने के लिए, कम से कम इन चीज़ों की ज़रूरत होती है:

अगर आप चाहते हैं कि खोज नतीजों में आपका वीडियो दिखाया जाए, तो:

  • यह ज़रूरी है कि Google उस वीडियो को ढूंढ पाए. पेज पर मौजूद एचटीएमएल टैग से वीडियो की पहचान होती है, उदाहरण के लिए: <video>, <embed> या <object>. इस बात का ध्यान रखें कि पेज पर वीडियो को देखने के लिए, उपयोगकर्ता को मुश्किल कार्रवाइयां न करनी पड़े या कोई खास यूआरएल फ़्रैगमेंट लोड करना ज़रूरी न हो. ऐसा होने पर शायद Google इसे ढूंढ न पाए. सलाह: हालांकि, सामान्य तौर पर क्रॉल करते समय हम पेज पर एम्बेड किए गए वीडियो ढूंढ सकते हैं, लेकिन वीडियो साइटमैप पोस्ट करके आप उसे ढूंढने में हमारी मदद कर सकते हैं.
  • आपको वीडियो के लिए अच्छी क्वालिटी की थंबनेल इमेज देनी ज़रूरी है.
  • यह ध्यान रखें कि हर वीडियो 'सभी के लिए उपलब्ध पेज' पर मौजूद हो जहां उपयोगकर्ता वीडियो देख सकें. इस पेज पर उपयोगकर्ता को लॉगिन करने की ज़रूरत न हो. साथ ही, robots.txt या noindex इस्तेमाल करके पेज पर रोक भी नहीं लगी हो (यह ज़रूरी है कि Google इस पेज को ऐक्सेस कर पाए).
  • वीडियो कॉन्टेंट, इसे होस्ट करने वाले पेज पर मौजूद कॉन्टेंट के मुताबिक होना चाहिए. उदाहरण के लिए, अगर आपके किसी पेज पर काजू की बर्फ़ी बनाने की रेसिपी बताई गई है, तो उस पर सामान्य बर्फ़ी बनाने की रेसिपी का वीडियो एम्बेड न करें.
  • वीडियो के साइटमैप या वीडियो के मार्कअप में दी गई जानकारी, वीडियो के असली कॉन्टेंट के मुताबिक ही होनी चाहिए.


सबसे अच्छे नतीजों के लिए:

अगर आप नीचे दिए गए तरीके अपनाते हैं, तो Google आपके वीडियो को खोज नतीजों में बेहतर तरीके से दिखा सकता है:

अपने वीडियो के लिए अच्छी क्वालिटी का थंबनेल देना

'Google वीडियो' के खोज के नतीजों में दिखाई देने के लिए, वीडियो की थंबनेल इमेज होनी ज़रूरी है, ताकि उसे खोज नतीजों में दिखाया जा सके.

आप कई तरीकों से थंबनेल दे सकते हैं या चालू कर सकते हैं:

  • अगर आप <video> एचटीएमएल टैग का इस्तेमाल कर रहे हैं, तो poster एट्रिब्यूट तय करें.
  • वीडियो साइटमैप में, <video:thumbnail_loc> को तय करें
  • स्ट्रक्चर्ड डेटा में, VideoObject.thumbnailUrl को तय करें
  • वीडियो ऐसे फ़ॉर्मैट में अपलोड करें जिसे क्रॉल किया जा सके, ताकि हम आपके वीडियो का थंबनेल बना सकें.

सबसे अच्छी तरह काम करने वाले फ़ॉर्मैट: JPG, PNG

साइज़: 160x90 से लेकर 1920x1080 पिक्सल तक

जगह: यह ज़रूरी है कि झलक के तौर पर दिखाए जाने वाले थंबनेल को Googlebot ऐक्सेस कर पाए. robots.txt इस्तेमाल करके इस पर रोक न लगी हो या लॉगिन करने की ज़रूरत न हो.

अपने वीडियो को क्रॉल करवाने के आसान तरीके

अगर Google आपका वीडियो क्रॉल कर सकता है, तो हम आपके वीडियो के लिए थंबनेल इमेज बना सकते हैं. साथ ही, वीडियो की झलक दिखाने की सुविधा चालू करने के अलावा दूसरी सुविधाएं भी दे सकते हैं.

ऐसे तरीके जिनकी मदद से वीडियो को आसानी से क्रॉल किया जा सके:

  • वीडियो ऐसे फ़ॉर्मैट में होना चाहिए जिसे क्रॉल किया जा सके.
  • वीडियो को होस्ट करने वाले पेज और स्ट्रीम की जा रही फ़ाइल की बाइट पर, Google के लिए रोक नहीं लगी होनी चाहिए. (रोक लगी होने का मतलब है कि पेज या फ़ाइल paywall के ज़रिए सुरक्षित है, उसमें लॉगिन की ज़रूरत है या noindex या robots.txt इस्तेमाल करके उस पर रोक लगाई गई है.)
  • वीडियो को होस्ट करने वाले पेज और वीडियो को स्ट्रीम करने वाले सर्वर में इतनी बैंडविड्थ होनी चाहिए कि उसे क्रॉल किया जा सके. इसका मतलब है कि example.com/puppies.html के लैंडिंग पेज पर अगर आपने somestreamingservice.com पर मौजूद कोई ऐसा वीडियो एम्बेड किया है जिसमें कुत्ते के बच्चे दिखाए गए है, तो example.com और somestreamingservice.com पर रोक नहीं लगी होनी चाहिए और सर्वर लोड कम होना चाहिए.

वीडियो एन्कोडिंग करने वाले फ़ॉर्मैट

Google, इस तरह के वीडियो फ़ाइल को क्रॉल कर सकता है: .3g2, .3gp2, .3gp, .3gpp, .asf, .avi, .divx, .f4v, .flv, .m2v, .m3u8, .m4v, .mkv, .mov, .mp4, .mpe, .mpeg, .mpg, .ogv, .qvt, .ram, .rm, .vob, .webm, .wmv, .xap

अब फ़्लैश फ़ॉर्मैट में उपलब्ध वीडियो को क्रॉल नहीं किया जा सकता. अगर आपका वीडियो फ़्लैश फ़ॉर्मैट में है, तो इसे किसी ऐसे फ़ॉर्मैट में ट्रांसकोड करें जो मोबाइल ब्राउज़र पर काम करता हो.

स्ट्रक्चर्ड डेटा या वीडियो का साइटमैप इस्तेमाल करके, अपने वीडियो के बारे में बताना

आप स्ट्रक्चर्ड डेटा, वीडियो का साइटमैप या दोनों इस्तेमाल करके Google को अपने वीडियो के बारे में ज़्यादा जानकारी दे सकते हैं. ज़्यादा जानकारी देने से खोज नतीजों में ज़्यादा सुविधाएं चालू हो जाएंगी. साथ ही, हमें आपके वीडियो को बेहतर तरीके से समझने और उसे रैंक देने में मदद मिलेगी.

दोनों तरीकों से Google को समान जानकारी मिल सकती है, लेकिन वीडियो का साइटमैप इस्तेमाल करके Google को नया या अपडेट किया गया कॉन्टेंट जल्दी ढूंढने में मदद मिलेगी. साइटमैप के बजाय स्ट्रक्चर्ड डेटा देने में कुछ लोगों को आसानी हो सकती है. साथ ही, उनकी साइट की ओर से स्ट्रक्चर्ड डेटा का ज़्यादा इस्तेमाल होने से, ज़्यादा बेहतर नतीजों (रिच रिज़ल्ट) की सुविधा चालू हो जाएगी. आप अपनी वेबसाइट पर दोनों तरीकों से जानकारी दे सकते हैं, लेकिन ऐसा करने पर आपको यह ध्यान रखना होगा कि दोनों जगह आपका डेटा एक जैसा हो.

स्ट्रक्चर्ड डेटा

होस्ट करने वाले पेज पर अपने वीडियो के बारे में बताने वाला स्ट्रक्चर्ड डेटा जोड़ें. स्ट्रक्चर्ड डेटा वह जानकारी है जो आप टैग या JSON का इस्तेमाल करके एक तय फ़ॉर्मैट में देते हैं. जब Google आपके पेज को क्रॉल करता है, तो वीडियो के बारे में जानकारी लेने के लिए उस फ़ॉर्मैट को पढ़ और समझ सकता है.

आप कई फ़ॉर्मैट इस्तेमाल कर सकते हैं, लेकिन Google का खास तौर पर सुझाव है कि JSON-LD फ़ॉर्मैट में schema.org के VideoObject सिंटैक्स का इस्तेमाल किया जाना चाहिए.

पेज पर VideoObject का कोड एम्बेड करें. VideoObject उस वीडियो से जुड़ा होता है जिसे आपने सोर्स यूआरएल से अपने पेज पर एम्बेड किया है.

अपने पेज पर मौजूद हर वीडियो के लिए VideoObject की जानकारी एम्बेड करने का तरीका जानें.

VideoObject JSON-LD के उदाहरण

<html>
<head>
 <title>Schnitzel in an hour</title>
</head>
<body>
 <script type="application/ld+json">
  {
   "@context": "http://schema.org",
   "@type": "VideoObject",
   "name": "Schnitzel Stories",
   "description": "How to make fantastic schnitzel in just one hour",
   "thumbnailUrl": "https://example.com/imgs/schnitzel-small.jpg",
   "uploadDate": "2015-02-05T08:00:00+08:00",
   "duration": "PT1M33S",
   "contentUrl": "https://streamserver.example.com/schnitzel.mp4"
  }
  </script>
  <h1>Everybody loves schnitzel</h1>

  ... omitted schnitzel-related page content...

  <video width="420"
     src="https://streamserver.example.com/schnitzel.mp4"
     poster="https://example.com/imgs/schnitzel-small.jpg"/>
</body>
</html>

सामान्य VideoObject या टीवी/फ़िल्म वाला ज़्यादा बेहतर नतीजा (रिच रिज़ल्ट)?

अगर आप किसी टीवी शो या फ़िल्म के बारे में उसकी समीक्षा या उसके कलाकारों से जुड़ी जानकारी दे रहे हैं, तो आपको अपनी वेबसाइट पर टीवी या फ़िल्म वाले स्ट्रक्चर्ड डेटा का इस्तेमाल करना चाहिए. जब आपके वीडियो को खरीदने या किराये पर लेने से जुड़ी कार्रवाइयां भी शामिल हों, तब भी इस तरह का स्ट्रक्चर्ड डेटा इस्तेमाल किया जा सकता है. टीवी या फ़िल्म वाले स्ट्रक्चर्ड डेटा का इस्तेमाल करने पर Search में ज़्यादा बेहतर नतीजों (रिच रिज़ल्ट) की सुविधा चालू हो जाती है. इनमें रेटिंग, समीक्षाएं, और कलाकारों से जुड़ी जानकारी के साथ-साथ मुफ़्त या पैसे देकर स्ट्रीम करने की सेवा के लिंक शामिल हो सकते हैं. एक साथ कई तरह के खोज नतीजे दिखाने वाली विंडो में ही ज़्यादा बेहतर नतीजे (रिच रिज़ल्ट) दिखाए जाते हैं.

ओपन ग्राफ़ प्रोटोकॉल

schema.org का VideoObject सिटैंक्स न होने पर, Google ओपन ग्राफ़ प्रोटोकॉल के कुछ मेटाडेटा को भी प्रोसेस कर सकता है. इन टैग में, पेज पर मौजूद मुख्य वीडियो के बारे में जानकारी होनी चाहिए.

वीडियो साइटमैप

वीडियो साइटमैप ऐसा एक्सएमएल साइटमैप होता है जिसका इस्तेमाल Google आपकी साइट पर वीडियो ढूंढने के लिए करता है. यह Google को किसी वीडियो के बारे में जानकारी भी दे सकता है. वीडियो साइटमैप में किसी वीडियो की जानकारी उसी तरह दी जा सकती है जिस तरह स्ट्रक्चर्ड डेटा के VideoObject में दी जाती है. वीडियो साइटमैप इस्तेमाल करने का फ़ायदा यह है कि इससे Google नए या अपडेट किए गए वीडियो ढूंढ सकता है. साथ ही, इसके ज़रिए एक ही फ़ाइल में एक से ज़्यादा वीडियो के बारे में जानकारी दी जा सकती है. इससे Google को हर पेज क्रॉल करके उनमें हुए बदलाव देखने की ज़रूरत नहीं होगी.

वीडियो साइटमैप बनाने का तरीका जानें.

कॉन्टेंट अपडेट करना

अपना कॉन्टेंट ढूंढने और पढ़ने में Google की मदद करने के लिए, आप जिस तरीके का इस्तेमाल कर रहे हैं उससे आप हमें किसी वीडियो में हुए बदलाव के बारे में बता सकते हैं. अगर आप बिना कोई और बदलाव किए सिर्फ़ वीडियो के यूआरएल और सोर्स फ़ाइल में बदलाव करते हैं, तो शायद Google उस बदलाव को समझ न पाए.

  • स्ट्रक्चर्ड डेटा: आपके पेज पर मौजूद वीडियो के स्ट्रक्चर्ड डेटा में बदलाव होने पर, अगली बार क्रॉल करते समय Google को वह बदलाव दिखेगा. आप सामान्य साइटमैप या वीडियो साइटमैप इस्तेमाल करके, Google को उस पेज के बारे में बता सकते हैं जिसमें बदलाव हुआ है.
  • वीडियो साइटमैप और एमआरएसएस: जब आप वीडियो का साइटमैप पोस्ट करते हैं, तो Google उसे समय-समय पर फिर से क्रॉल करेगा और वीडियो के डेटा में हुए किसी भी बदलाव के मुताबिक खोज नतीजे अपडेट करेगा. आप किसी साइटमैप को फिर से सबमिट भी कर सकते हैं या Google को बदलाव किए गए साइटमैप के बारे में सूचना दे सकते हैं, ताकि वह तुरंत आपकी साइट फिर से क्रॉल कर सके. साइटमैप को सबमिट करने और साइटमैप को अपडेट करने के लिए, एचटीटीपी अनुरोध का इस्तेमाल करने के बारे में ज़्यादा जानें.

वीडियो हटाना

हमारा सुझाव है कि अपनी साइट से कोई वीडियो हटाने के लिए आप इन विकल्पों का इस्तेमाल करें:

  • किसी ऐसे लैंडिंग पेज के लिए एचटीटीपी स्टेटस कोड के तौर पर 404 (नहीं मिला) गड़बड़ी दिखाएं जिसमें हटाया गया या ऐसा वीडियो है जो अब देखने के लिए उपलब्ध नहीं है. 404 रिस्पॉन्स कोड के साथ-साथ, आप पेज का एचटीएमएल कोड भी दिखा सकते हैं, ताकि ज़्यादातर उपयोगकर्ताओं को वह बदलाव दिख सके.
  • देखने के लिए वीडियो उपलब्ध रहने की आखिरी तारीख के बारे में बताएं. आप यह जानकारी schema.org वाले स्ट्रक्चर्ड डेटा, वीडियो साइटमैप (<video:expiration_date> एलिमेंट इस्तेमाल करके) या एमआरएसएस फ़ीड (<dcterms:valid> टैग) में दे सकते हैं. यहां एक ऐसे वीडियो के साइटमैप का उदाहरण दिया गया है जो नवंबर 2009 तक उपलब्ध था:
    <urlset xmlns="http://www.sitemaps.org/schemas/sitemap/0.9"
            xmlns:video="http://www.google.com/schemas/sitemap-video/1.1">
      <url>
        <loc>http://www.example.com/videos/some_video_landing_page.html</loc>
        <video:video>
          <video:thumbnail_loc>
             http://www.example.com/thumbs/123.jpg
         </video:thumbnail_loc>
          <video:title>
             Grilling steaks for summer
         </video:title>
          <video:description>
             Bob shows you how to grill steaks perfectly every time
         </video:description>
          <video:player_loc>
              http://www.example.com/videoplayer?video=123
         </video:player_loc>
          <video:expiration_date>2009-11-05T19:20:30+08:00</video:expiration_date>
        </video:video>
      </url>
    </urlset>
    
अगर आप किसी वीडियो को खोज नतीजों से तुरंत हटाना चाहते हैं, तो आपको इसके लिए वीडियो हटाने का अनुरोध भी करना चाहिए. इस बात का ध्यान रखें कि वीडियो हटाने के लिए, यह ज़रूरी है कि Google के लिए वह वीडियो उपलब्ध न हो या Google उसे ऐक्सेस न कर पाए (यानी 404 वाली गड़बड़ी दिखाई जाए या लॉगिन की ज़रूरत हो).

वीडियो को लोड करने के लिए ज़्यादा शर्तें न रखना

अपनी साइट को डिज़ाइन करते समय यह ध्यान रखें कि वीडियो लोड होने के लिए, आपके वीडियो पेज पर कई शर्तों को पूरा करने या एक से ज़्यादा चरणों में होने वाली कार्रवाइयों की ज़रूरत न हो. जैसे, अगर आप कुछ खास स्थितियों में, JavaScript के ज़रिए एम्बेड किए गए ऑब्जेक्ट बनाने के लिए मुश्किल JavaScript का इस्तेमाल कर रहे हैं (उदाहरण के लिए, यूआरएल में हैशटैग का इस्तेमाल), तो शायद हम आपके सभी वीडियो न ढूंढ पाएं. खास तौर पर, यह तब ज़रूरी है, जब आप वीडियो के बारे में जानकारी देने के लिए साइटमैप इस्तेमाल न कर रहे हों.

अपने वीडियो पेज इस तरह बनाना कि उपयोगकर्ता उसे आसानी से इस्तेमाल कर सकें

अच्छा वीडियो बनाने के अलावा, आप अपने एचटीएमएल पेज के कॉन्टेंट को बेहतर डिज़ाइन में पेश कर सकते हैं. उदाहरण के लिए, आप नीचे दिए गए तरीके अपना सकते हैं:

  • हर वीडियो के लिए अलग से एक लैंडिंग पेज बनाएं, जिसमें इससे जुड़ी पूरी जानकारी हो. अगर आप ऐसा करते हैं, तो यह ध्यान रखें कि हर पेज पर जानकारी देने वाले शीर्षक और कैप्शन जैसी खास जानकारी मौजूद हो.
  • हर लैंडिंग पेज को इस तरह बनाएं कि उपयोगकर्ता के लिए वीडियो ढूंढना और उन्हें चलाना आसान हो. एक ऐसा एम्बेड किया गया वीडियो प्लेयर इस्तेमाल करना चाहिए जो ज़्यादा इस्तेमाल होता हो और जिस पर वीडियो के ज़्यादातर फ़ॉर्मैट काम करते हों. इससे आपके वीडियो, उपयोगकर्ताओं के लिए ज़्यादा दिलचस्प बन सकते हैं. साथ ही, इस तरह के वीडियो को इंडेक्स करना Google के लिए आसान होता है.

प्लैटफ़ॉर्म के हिसाब से खोज नतीजे दिखाना

आप खोज कर रहे व्यक्ति के प्लैटफ़ॉर्म के हिसाब से, अपने वीडियो से जुड़े खोज नतीजे दिखा सकते हैं. इन प्लैटफ़ॉर्म में कंप्यूटर, मोबाइल डिवाइस, और टेलिविज़न के ब्राउज़र शामिल हैं.

वीडियो साइटमैप इस्तेमाल करके ब्राउज़र के हिसाब से खोज नतीजे दिखाना

अगर आपके वीडियो पर प्लैटफ़ॉर्म के लिए कोई पाबंदी नहीं लगाई गई है, तो प्लैटफ़ॉर्म पर पाबंदी लगाने वाला टैग इस्तेमाल नहीं करना चाहिए.

वीडियो के साइटमैप में, <video:platform> टैग इस्तेमाल किया जा सकता है, ताकि वीडियो को चुनिंदा डिवाइस पर खोज नतीजों में दिखाया जा सके या वीडियो पर पाबंदी लगाई जा सके. हर वीडियो के लिए सिर्फ़ एक <video:platform> टैग इस्तेमाल किया जा सकता है. टैग में relationship एट्रिब्यूट होना ज़रूरी है. इससे पता चलता है कि शामिल किए गए प्लैटफ़ॉर्म को मंज़ूरी दी गई है या उन पर पाबंदी लगाई गई है.

उदाहरण

वीडियो साइटमैप के इस उदाहरण में यह वीडियो सिर्फ़ डेस्कटॉप और मोबाइल के ब्राउज़र पर दिखेगा.

<url>
  <loc>http://www.example.com/videos/some_video_landing_page.html</loc>
  <video:video>
    <video:thumbnail_loc>
        http://www.example.com/thumbs/123.jpg
    </video:thumbnail_loc>
    <video:title>Grilling steaks for summer</video:title>
    <video:description>
        Bob shows you how to get perfectly done steaks every time
    </video:description>
    <video:player_loc>
        http://www.example.com/videoplayer?video=123
    </video:player_loc>
    <video:platform relationship="allow">web mobile</video:platform>
  </video:video>
</url>

स्ट्रक्चर्ड डेटा या एमआरएसएस इस्तेमाल करके ब्राउज़र के हिसाब से खोज नतीजे दिखाना

VideoObject या एमआरएसएस फ़ीड के लिए ब्राउज़र पर पाबंदी लगाने वाला कोई टैग नहीं है.

उपयोगकर्ताओं के देश के हिसाब से खोज नतीजे दिखाना

खोज करने वाले उपयोगकर्ताओं की जगह के हिसाब से आप खोज नतीजे दिखा सकते हैं. अगर आपके वीडियो पर देश के हिसाब से कोई पाबंदी नहीं लगी है, तो आपको देश के हिसाब से पाबंदी लगाने वाला टैग इस्तेमाल नहीं करना चाहिए.

वीडियो साइटमैप इस्तेमाल करके, देश के हिसाब से खोज नतीजे दिखाना

चुनिंदा देशों में वीडियो को खोज नतीजों में दिखाने या न दिखाने के लिए, वीडियो के साइटमैप में <video:restriction> टैग इस्तेमाल किया जा सकता है. हर वीडियो के लिए सिर्फ़ एक <video:restriction> टैग इस्तेमाल किया जा सकता है.

<video:restriction> टैग में एक या एक से ज़्यादा देशों के कोड ISO 3166 फ़ॉर्मैट में, खाली जगह से अलग करके लिखे होने चाहिए. ज़रूरी relationship एट्रिब्यूट यह बताता है कि किस तरह की पाबंदी लगाई गई है.

  • relationship="allow" - वीडियो तय किए गए चुनिंदा देशों में ही दिखेगा. अगर कोई भी देश तय नहीं किया गया है, तो वीडियो कहीं नहीं दिखेगा.
  • relationship="deny" - वीडियो तय किए गए देशों के अलावा, बाकी सभी जगहों पर दिखेगा. अगर कोई भी देश तय नहीं किया गया है, तो वीडियो सभी जगह दिखेगा.

वीडियो साइटमैप के इस उदाहरण में, यह वीडियो सिर्फ़ कनाडा और मेक्सिको में दिखेगा.

   <url>
     <loc>http://www.example.com/videos/some_video_landing_page.html</loc>
     <video:video>
       <video:thumbnail_loc>
           http://www.example.com/thumbs/123.jpg
      </video:thumbnail_loc>
       <video:title>Grilling steaks for summer</video:title>
       <video:description>
          Bob shows you how to get perfectly done steaks every time
      </video:description>
       <video:player_loc>
          http://www.example.com/player?video=123
      </video:player_loc>
       <video:restriction relationship="allow">ca mx</video:restriction>
     </video:video>
   </url>

स्ट्रक्चर्ड डेटा इस्तेमाल करके देश के हिसाब से खोज के नतीजे दिखाना

अगर आप किसी वीडियो के बारे में जानकारी देने के लिए VideoObject वाला स्ट्रक्चर्ड डेटा इस्तेमाल कर रहे हैं, तो VideoObject.regionsAllowed प्रॉपर्टी सेट करें. इससे पता चलता है कि किस जगह पर खोज नतीजों में वीडियो दिखेगा. अगर आप यह प्रॉपर्टी इस्तेमाल नहीं करते हैं, तो वीडियो सभी जगहों पर खोज नतीजों में दिखेगा.

एमआरएसएस इस्तेमाल करके देश के हिसाब से खोज के नतीजे दिखाना

media:restriction टैग इस्तेमाल करके, एमआरएसएस फ़ीड में मौजूद वीडियो पर पाबंदी लगाई जा सकती है. इसके लिए type एट्रिब्यूट को country पर सेट करना होता है. media:restriction के लिए भी relationship एट्रिब्यूट को allow या deny पर सेट करना होता है. इसके लिए ISO 3166 के फ़ॉर्मैट में देशों के कोड खाली जगह से अलग करके बनाई गई सूची में डाले जा सकते हैं.

उदाहरण के तौर पर दिए गए इस एमआरएसएस में, यह वीडियो अमेरिका और कनाडा के अलावा, सभी देशों में दिखेगा.

  <item xmlns:media="http://search.yahoo.com/mrss/" xmlns:dcterms="http://purl.org/dc/terms/">
    <link>http://www.example.com/examples/mrss/example.html</link>
    <media:content url="http://www.example.com/examples/mrss/example.mp4"
                  fileSize="405321" type="video/x-flv" height="240"
                  width="320" duration="120" medium="video"
                  isDefault="true">
      <media:title>Grilling Steaks for Summer</media:title>
      <media:description>
         Get perfectly done steaks every time
     </media:description>
      <media:thumbnail
         url="http://www.example.com/examples/mrss/example.png"
         height="120" width="160"/>
    </media:content>
    <media:restriction relationship="deny" type="country">us ca</media:restriction>
  </item>

'Google वीडियो सर्च' के लिए एमआरएसएस फ़ीड इस्तेमाल करने या एमआरएसएस की जानकारी में media:restriction टैग के बारे में ज़्यादा जानें.

कौनसा यूआरएल, किस तरह का है?

पेज पर मौजूद किसी वीडियो फ़ाइल के कई यूआरएल हो सकते हैं. उनमें से ज़्यादातर के बारे में यहां जानकारी दी गई है:

किसी पेज में दिए गए यूआरएल का डायग्राम

टैग जानकारी
1
  • <loc>
    (वीडियो साइटमैप वाला टैग)

वीडियो को होस्ट करने वाले पेज का यूआरएल. उदाहरण:

<loc>https://example.com/news/worlds-biggest-cat.html</loc>

2
  • VideoObject.embedUrl
    (स्ट्रक्चर्ड डेटा)
  • <video:player_loc>
    (वीडियो साइटमैप वाला टैग)
  • <iframe src="...">

कस्टम प्लेयर का यूआरएल. आम तौर पर, यह पेज पर <iframe> या <embed> टैग का src मान होता है. उदाहरण:

<video:player_loc>
https://archive.example.org/cats/1234</video:player_loc>

3
  • <video src="...">
    (एचटीएमएल टैग)
  • <embed src="...">
    (एचटीएमएल टैग)
  • <video:content_loc>
    (वीडियो साइटमैप वाला टैग)
  • VideoObject.contentUrl
    (स्ट्रक्चर्ड डेटा)

किसी लोकल साइट या स्ट्रीम करने वाली किसी सेवा पर मौजूद वीडियो की फ़ाइल का यूआरएल. उदाहरण:

<video src="videos.example.com/cats/1234.mp4">

स्ट्रक्चर्ड डेटा, वीडियो का साइटमैप या साइटमैप का कोई विकल्प इस्तेमाल करते समय, आपको ज़रूरत के मुताबिक, एम्बेड किए गए प्लेयर या वीडियो की फ़ाइल के बारे में बताना चाहिए.

वीडियो को Google Search के नतीजों में दिखने से रोकना

अगर आप वीडियो को Google Search के नतीजों में दिखने से रोकना चाहते हैं, तो आप इन तरीकों का इस्तेमाल कर सकते हैं:

  • होस्ट पेज और वीडियो फ़ाइल को देखने के लिए लाॅगिन करना ज़रूरी कर सकते हैं.
  • वीडियो साइटमैप में देश से जुड़ी पाबंदी लगाकर, अनुमति वाली सूची खाली छोड़ सकते हैं:
    <video:restriction relationship="allow"></video:restriction>
  • जिस वीडियो या होस्ट पेज को आप Google Search के नतीजों में दिखाने से रोकना चाहते हैं उस पर आप robots.txt के ज़रिए रोक लगा सकते हैं. अगर आपका वीडियो और होस्ट पेज एक ही साइट पर हैं, तो सोर्स फ़ाइल के यूआरएल (contentUrl का पता) और होस्ट पेज के यूआरएल पर रोक लगा सकते हैं. अगर वीडियो किसी दूसरे सीडीएन पर होस्ट किया गया है, तो होस्ट/प्लेयर पेज पर रोक लगा सकते हैं.
  • होस्ट पेज और फ़ाइल के लिए noindex एचटीटीपी का निर्देश दें (अगर फ़ाइल आपकी साइट के किसी पेज पर है).

ध्यान दें, यहां बताए गए किसी भी तरीके से दूसरे पेज को, आपके वीडियो या पेज से जुड़ने से रोका नहीं जा सकता.

वीडियो को इंडेक्स करते समय होने वाली आम गलतियां

यहां वीडियो को इंडेक्स करते समय होने वाली कुछ आम गलतियों के बारे में बताया गया है. साथ ही, इन्हें सुलझाने के तरीके भी बताए हैं, ताकि खोज नतीजों में आपके वीडियो की दिखने की संभावना बढ़ जाए. आप हमारी वेबमास्टर गाइडलाइन भी देख सकते हैं.

robots.txt के ज़रिए वीडियो से जुड़ी चीज़ों पर रोक लगाना

आम तौर पर, robots.txt का इस्तेमाल इसलिए किया जाता है, ताकि सर्च इंजन को JavaScript, वीडियो, और इमेज फ़ाइल क्रॉल करने से रोका जा सके. Google किसी वीडियो को क्रॉल कर पाए, इसके लिए यह ज़रूरी है कि हम कुछ चीज़ों को देख पाएं. इनमें आपका स्ट्रक्चर्ड डेटा या साइटमैप में तय किया गया थंबनेल, वह पेज जिस पर वीडियो मौजूद है, और वीडियो को लोड करने के लिए ज़रूरी JavaScript या दूसरी चीज़ें शामिल हैं. ध्यान रखें कि आपकी robots.txt फ़ाइल के ज़रिए वीडियो से जुड़ी किसी चीज़ पर रोक न लगाई जा रही हो.

अगर आप वीडियो के साइटमैप या एमआरएसएस इस्तेमाल कर रहे हैं, तो ध्यान रखें कि Google उन साइटमैप या एमआरएसएस फ़ीड को ऐक्सेस कर पाए जो आपने सबमिट किए हैं. अगर इन पर robots.txt के ज़रिए रोक लगाई गई है, तो हम उन्हें ढूंढ नहीं पाएंगे.

robots.txt के बारे में ज़्यादा जानें.

हल्की क्वालिटी वाली थंबनेल इमेज

आप किसी भी फ़ॉर्मैट में इमेज दे सकते हैं, लेकिन .png और .jpg इमेज सबसे अच्छे तरीके से काम करती हैं. इमेज कम से कम 160x90 पिक्सल की और 1920x1080 पिक्सल से ज़्यादा की नहीं होनी चाहिए.

डुप्लीकेट थंबनेल, शीर्षक या जानकारी

अलग-अलग वीडियो के लिए एक जैसे थंबनेल, शीर्षक या जानकारी का इस्तेमाल करने से वीडियो को इंडेक्स करने की प्रक्रिया पर असर पड़ सकता है. साथ ही, इससे उपयोगकर्ता को उन्हें ढूंढने में परेशानी हो सकती है. हर वीडियो के लिए डेटा अलग होना चाहिए. एपिसोड वाले कॉन्टेंट में एक आम समस्या यह होती है कि एक ही शीर्षक वाले थंबनेल के साथ एक से ज़्यादा वीडियो होते हैं.

वीडियो देखने के लिए उपलब्ध रहने की तारीख को उसे क्रॉल किए जाने की तारीख से पहले का तय करना

अगर वीडियो देखने के लिए उपलब्ध रहने की तारीख उसे क्रॉल किए जाने की तारीख से पहले की है, तो हम उस वीडियो को खोज नतीजों में शामिल नहीं करेंगे. इसमें, साइटमैप और पेज पर मौजूद स्ट्रक्चर्ड डेटा में दी गई जानकारी देखने के लिए उपलब्ध रहने की आखिरी तारीखें शामिल हैं. साथ ही, इसमें साइट के हेडर में मेटा डेटा वाले टैग में दी गई जानकारी उपलब्ध रहने की आखिरी तारीखें भी होती हैं. हर वीडियो के लिए देखने के लिए उपलब्ध रहने की आखिरी तारीख सही होनी चाहिए. अगर आपका वीडियो, उसे देखे जाने की आखिरी तारीख के बाद उपलब्ध नहीं है, तो इस टैग का इस्तेमाल किया जाना चाहिए. फिर भी, ऐसा हो सकता है कि किसी ऐसे वीडियो के लिए पहले की तारीख सेट हो जाए जो अब भी उपलब्ध है. अगर किसी वीडियो की देखने के लिए उपलब्ध रहने की आखिरी तारीख तय नहीं की गई है, तो इससे जुड़ी जानकारी शामिल न करें.

हटाए गए वीडियो की सूची बनाना

किसी पेज पर एम्बेड किए गए वीडियो को हटाए जाने पर, कई साइटें उपयोगकर्ताओं को उसके उपलब्ध न होने के बारे में बताने के लिए Flash प्लेयर का इस्तेमाल करती हैं. इससे सर्च इंजन को समस्या हो सकती है. इसलिए, हम इन विकल्पों का इस्तेमाल करने का सुझाव देते हैं:

  • किसी ऐसे लैंडिंग पेज के लिए एचटीटीपी स्टेटस कोड के तौर पर 404 (नहीं मिला) गड़बड़ी दिखाएं जिसमें हटाया गया या ऐसा वीडियो है जो अब देखने के लिए उपलब्ध नहीं है. 404 रिस्पॉन्स कोड के अलावा, आप अब भी पेज के एचटीएमएल को दिखा सकते हैं, ताकि ज़्यादातर उपयोगकर्ताओं को वह बदलाव दिख सके.
  • देखने के लिए वीडियो उपलब्ध रहने की आखिरी तारीख के बारे में बताएं. आप यह जानकारी स्ट्रक्चर्ड डेटा, वीडियो साइटमैप (<video:expiration_date> एलिमेंट इस्तेमाल करके) या Google को सबमिट किए गए एमआरएसएस फ़ीड (<dcterms:valid> टैग) में दे सकते हैं.

ज़्यादा शर्तों के साथ पेज लोड करने वाला JavaScript कोड और यूआरएल फ़्रैगमेंट

अपनी साइट को डिज़ाइन करते समय यह ध्यान रखें कि वीडियो पेजों को कॉन्फ़िगर करने के लिए किसी ज़्यादा मुश्किल JavaScript का इस्तेमाल न किया जाए. अगर आप कुछ खास स्थितियों में, JavaScript के ज़रिए वीडियो ऑब्जेक्ट को एम्बेड करने के लिए मुश्किल JavaScript इस्तेमाल कर रहे हैं (उदाहरण के लिए, यूआरएल में हैशटैग का इस्तेमाल), तो शायद हम आपके सभी वीडियो ठीक तरह से इंडेक्स न कर पाएं. कॉन्टेंट या लैंडिंग पेज के ऐसे यूआरएल को क्रॉल नहीं किया जाता जिनमें 'हैश का निशान' या फ़्रैगमेंट की पहचान करने वाले हिस्से की ज़रूरत होती है. साथ ही, पेज पर Flash का इस्तेमाल करने से शायद पेज सही तरीके से इंडेक्स न हो पाए. सबसे अच्छे नतीजों के लिए, Flash का इस्तेमाल करने के बजाय, सिर्फ़ एचटीएमएल मार्कअप में अपने वीडियो का शीर्षक और उससे जुड़ी जानकारी दें.

अगर आप पेज पर मौजूद स्ट्रक्चर्ड डेटा इस्तेमाल कर रहे हैं, तो स्ट्रक्चर्ड डेटा में Flash का कोड या एम्बेड किए गए दूसरे प्लेयर मौजूद नहीं होने चाहिए.

ऐसे वीडियो जो छोटे हों या छिपे हुए हों या उनको ढूंढना मुश्किल हो

जांच लें कि वीडियो दिख रहे हैं और आपके वीडियो पेज पर आसानी से ढूंढे जा सकते हैं. Google की सलाह है कि हर वीडियो के लिए एक अलग पेज होना चाहिए, जिसमें वीडियो का शीर्षक या जानकारी हो. यह शीर्षक या जानकारी हर वीडियो के लिए अलग होनी चाहिए. वीडियो, पेज का मुख्य हिस्सा होने चाहिए. वे छिपे हुए नहीं होने चाहिए और उन्हें ढूंढना मुश्किल नहीं होना चाहिए.