सॉफ़्ट 404 गड़बड़ियां

सॉफ़्ट 404 एक यूआरएल है, जो उपयोगकर्ता को एक ऐसे पेज पर ले जाता है जहां 'यह पेज मौजूद नहीं है' लिखा हो. इसके अलावा, इस पेज पर 200 (success) स्टेटस कोड भी दिखता है. कुछ मामलों में, उपयोगकर्ता को ऐसे पेज पर ले जाया जा सकता है जिस पर बहुत कम या कोई भी कॉन्टेंट मौजूद न हो. उदाहरण के लिए, कम कॉन्टेंट वाला या खाली पेज.

अगर पेज पर 404 (not found), 410 (gone) या 301 (permanent redirect) के बजाय, कोई दूसरा सक्सेस स्टेटस कोड दिखता है, तो इसे गलत तरीका माना जाता है. सक्सेस स्टेटस कोड से सर्च इंजन को यह पता लगता है कि इस यूआरएल पर सही पेज मौजूद है. इस वजह से, वह पेज खोज के नतीजों में दिख सकता है. साथ ही, सर्च इंजन आपके सही पेजों को क्रॉल करने के बजाय, उस यूआरएल को क्रॉल करने की कोशिश करता रहता है जो मौजूद ही नहीं है.

जब पेज पर मौजूद कॉन्टेंट के आधार पर Google के एल्गोरिदम को पता चलता है कि असल में यह गड़बड़ी वाला पेज है, तो Search Console, साइट की इंडेक्स कवरेज रिपोर्ट में पेज से जुड़ी सॉफ़्ट 404 गड़बड़ी की जानकारी दिखाता है.

सॉफ़्ट 404 गड़बड़ियां ठीक करना

सॉफ़्ट 404 गड़बड़ियों को ठीक करने के कई तरीके हैं. आपके पेज का स्टेटस क्या है और आप किस तरह के बदलाव करना चाहते हैं, इसके आधार पर आप इनमें से कोई तरीका चुन सकते हैं:

पता लगाएं कि आपके उपयोगकर्ताओं के लिए इनमें से कौनसा तरीका सबसे अच्छा रहेगा.

पेज और कॉन्टेंट अब मौजूद नहीं है

अगर आपने अपना पेज हटा दिया है और आपकी साइट पर ऐसा कोई दूसरा पेज मौजूद नहीं है जिसका कॉन्टेंट हटाए गए पेज के कॉन्टेंट से मेल खाता हो, तो उपयोगकर्ताओं को पेज पर 404 (not found) या 410 (gone) रिस्पॉन्स (स्टेटस) कोड दिखाएं. इन स्टेटस कोड से सर्च इंजन को यह पता चलता है कि पेज मौजूद नहीं है और उसके कॉन्टेंट को इंडेक्स नहीं किया जाना चाहिए.

अगर आपके पास अपने सर्वर की कॉन्फ़िगरेशन फ़ाइलों का ऐक्सेस है, तो आप गड़बड़ी वाले पेजों को उपयोगी बनाने के लिए, उन्हें उपयोगकर्ताओं के हिसाब से बना सकते हैं. एक अच्छे कस्टम 404 पेज से लोगों को वह जानकारी पाने में मदद मिलेगी जिसे वे खोज रहे हैं. साथ ही, इस पर किसी भी तरह का उपयोगी कॉन्टेंट देने से, लोगों के आपकी साइट को ज़्यादा एक्सप्लोर करने की संभावना बढ़ जाएगी. एक उपयोगी कस्टम 404 पेज डिज़ाइन करने के लिए यहां कुछ सलाह दी गई है:

  • वेबसाइट पर आने वाले लोगों को साफ़ तौर पर बताएं कि वे जो पेज खोज रहे हैं वह मौजूद नहीं है. ऐसी भाषा का इस्तेमाल करें जो लोगों को समझ आए और उनका ध्यान खींचे.
  • पक्का करें कि आपका 404 पेज, दिखने और इस्तेमाल करने में आपकी साइट के बाकी पेजों के जैसा ही हो. इसमें, नेविगेशन भी शामिल है.
  • इस पेज पर, अपने सबसे लोकप्रिय लेखों या पोस्ट के लिंक दें. इनके अलावा, अपनी साइट के होम पेज का लिंक भी दें.
  • उपयोगकर्ताओं को टूटे हुए लिंक की शिकायत करने का तरीका बताएं.

कस्टम 404 पेज सिर्फ़ उपयोगकर्ताओं के लिए बनाए जाते हैं. सर्च इंजन के लिए ये पेज काम के नहीं होते. इसलिए, इन पेजों को इंडेक्स होने से रोकने लिए, यह ज़रूरी है कि सर्वर कोई 404 एचटीटीपी स्टेटस कोड दिखाए.

यह पेज या कॉन्टेंट अब किसी दूसरी साइट पर उपलब्ध है

अगर आपके पेज को किसी दूसरी साइट पर ले जाया गया है या उसके बदले कोई और पेज तैयार किया गया है, तो उपयोगकर्ता को दूसरे यूआरएल पर रीडायरेक्ट करने के लिए 301 (permanent redirect) दिखाएं. ऐसा करने से, उपयोगकर्ता के ब्राउज़िंग अनुभव में कोई रुकावट नहीं आएगी. साथ ही, सर्च इंजन को अपने पेज के नए यूआरएल के बारे में बताने का यह एक अच्छा तरीका है.

पेज और कॉन्टेंट अब भी मौजूद है

ऐसा हो सकता है कि कोई पेज मौजूद हो और उसे सॉफ़्ट 404 गड़बड़ी के साथ फ़्लैग किया गया हो. ऐसा तब होता है, जब Googlebot ने उसे क्रॉल किया हो और वह ठीक से लोड न हुआ हो. इसके अलावा, रेंडरिंग के दौरान किसी ज़रूरी रिसॉर्स के मौजूद न होने या अहम गड़बड़ी वाला कोई मैसेज दिखाए जाने की वजह से भी यह समस्या आ सकती है. रेंडर किए गए कॉन्टेंट और दिखाए गए एचटीटीपी कोड की जांच करने के लिए, यूआरएल जांचने वाले टूल का इस्तेमाल करें. अगर रेंडर किया गया पेज खाली है, उस पर बहुत कम कॉन्टेंट मौजूद है या पेज पर मौजूद कॉन्टेंट में गड़बड़ी का मैसेज है, तो हो सकता है कि आपके पेज में कई ऐसे रिसॉर्स हों जिन्हें लोड नहीं किया जा सकता. इन रिसॉर्स में, इमेज, स्क्रिप्ट, और बिना टेक्स्ट वाले अन्य एलिमेंट शामिल हैं. ऐसे मामले में, पेज पर सॉफ़्ट 404 से जुड़ी गड़बड़ी दिख सकती है. रिसॉर्स लोड न होने के कई कारण हो सकते हैं. जैसे, रिसॉर्स को robots.txt की मदद से ब्लॉक किया जाना, पेज पर बहुत ज़्यादा रिसॉर्स मौजूद होना, सर्वर की अलग-अलग तरह की गड़बड़ियां, पेज का देर से लोड होना या रिसॉर्स का बहुत बड़ा होना.