cache: खोज ऑपरेटर

cache: ऑपरेटर एक ऐसा खोज ऑपरेटर है जिसका इस्तेमाल कैश मेमोरी में सेव किए गए, किसी पेज के वर्शन को ढूंढने के लिए किया जा सकता है. Google पर कैश मेमोरी में सेव किया गया वर्शन जनरेट किया जाता है, ताकि कोई समस्या आने पर आप वेब पेज को ऐक्सेस कर पाएं. जैसे, साइट उपलब्ध न होने पर ऐसा किया जा सकता है.

cache: ऑपरेटर सिर्फ़ वेब खोज के लिए उपलब्ध होता है.

Google की कैश मेमोरी की टारगेट ऑडियंस, Search के उपयोगकर्ता होते हैं. साथ ही, इससे वेब क्रिएटर्स और डेवलपर को भी यह जानने में मदद मिल सकती है कि Google को कोई पेज, इंडेक्स करते समय कैसा दिखा होगा. यह डीबग करने में मददगार हो सकता है. उदाहरण के लिए, इससे यह पता लगाया जा सकता है कि जब कैश मेमोरी में सेव किए गए वर्शन को जनरेट किया गया था, तब कहीं इंजेक्ट किए गए कॉन्टेंट को Googlebot के लिए क्लोक तो नहीं किया गया था.

कैश मेमोरी में सेव किया गए किसी पेज के वर्शन को ढूंढना

कैश मेमोरी में सेव किए गए वर्शन को दो तरीकों से ढूंढा जा सकता है:

  1. cache: के आगे, पेज का यूआरएल डालकर खोजें. उदाहरण के लिए:
    cache:example.com/your/page.html
  2. यूआरएल खोजें. इसके बाद, नतीजे के कोने में दिए तीन बिंदुओं या ऐरो पर क्लिक करें. ऐसा करके कैश मेमोरी में सेव किए गए, पेज के वर्शन के लिंक को ऐक्सेस किया जा सकता है.

जानें कि Google, कैश मेमोरी में सेव किए गए, पेज के वर्शन को कैसे जनरेट करता है

इंडेक्स करते समय Google, कैश मेमोरी में सेव किए गए, किसी पेज के वर्शन को जनरेट करता है. इसके लिए, एचटीएमएल का रेंडर किया गया वर्शन इस्तेमाल किया जाता है. इंडेक्स किए जाने वाले ज़्यादातर पेजों के लिए ऐसा किया जाता है. हालांकि, इसकी कोई गारंटी नहीं है. अगर आपके पास कैश मेमोरी में सेव किए गए, पेज का वर्शन नहीं है, तो इसका मतलब यह नहीं है कि पेज या कॉन्टेंट खराब है. इससे, Google के खोज नतीजों में आपके पेज की परफ़ॉर्मेंस पर कोई असर नहीं पड़ता.

कैश मेमोरी में सेव किए गए, पेज के वर्शन को चालू करना

Google जिन पेजों को इंडेक्स करता है उनमें से ज़्यादातर पेजों का, कैश मेमोरी में सेव किया गया वर्शन भी होता है. अगर किसी पेज का, कैश मेमोरी में सेव किया गया वर्शन नहीं है, तो इसे खोजने के लिए ऊपर बताए गए तरीके काम नहीं करेंगे. उदाहरण के लिए, यूआरएल खोजने पर आपको कोई नतीजा नहीं मिलेगा या जो नतीजे मिलेंगे वे काम के नहीं होंगे. इसके अलावा, ऐसा भी हो सकता है कि कैश मेमोरी में सेव किए गए पेज पर "नहीं मिला" वाला मैसेज दिखे.

अगर आपकी साइट पर मौजूद किसी पेज का, कैश मेमोरी में सेव किया गया वर्शन नहीं है, तो पक्का करें कि पेज को इंडेक्स किया जा सके, वह Google की वेबमास्टर गाइडलाइन का पालन करता हो, और उसका कॉन्टेंट अच्छी क्वालिटी का हो. इसके अलावा, आपको तब तक इंतज़ार करना होगा, जब तक Google आपके पेज का, कैश मेमोरी में सेव किया गया वर्शन जनरेट नहीं करता.

कैश मेमोरी में सेव किए गए, किसी पेज के वर्शन रीफ़्रेश करना

Google, कैश मेमोरी में सेव किए गए, किसी पेज के वर्शन को इंडेक्स करते समय रीफ़्रेश करता है. कैश मेमोरी में सेव किए गए, किसी पेज के वर्शन को रीफ़्रेश करने के लिए, Search Console की मदद से, पेज को फिर से इंडेक्स करने का अनुरोध करें.