Search Console के लिए बेहतर गाइड

Search Console कई तरह की रिपोर्ट आपको देता है. इन रिपोर्ट से, आपको Google Search पर अपनी साइट की परफ़ॉर्मेंस पर नज़र रखने और उसे बेहतर बनाने में मदद मिलती है. भले ही, आप एसईओ के साथ शुरुआत कर रहे हों या आपने एसईओ के मुश्किल विषयों में महारत हासिल कर रखी हो. अगर आप Search Console के बारे में जानना शुरू कर रहे हैं, तो नए लोगों के लिए Search Console की एसईओ गाइड भी पढ़ें.

इनमें सबसे उपयोगी रिपोर्ट वही होगी जो आपके काम से जुड़ी होगी. इसका मतलब है कि वेब डेवलपर के लिए उपयोगी रिपोर्ट और एसईओ विशेषज्ञ, डिजिटल मार्केटर, और साइट एडमिन के लिए उपयोगी रिपोर्ट अलग-अलग हो सकती हैं. हालांकि, सभी ग्रुप के लिए कुछ विषय एक जितने उपयोगी होते हैं, फिर भी हर ग्रुप के के हिसाब से सबसे उपयोगी रिपोर्ट देना फ़ायदेमंद होता है.

एसईओ विशेषज्ञों, डिजिटल मार्केटर, और साइट के एडमिन के लिए मददगार रिपोर्ट

यहां Search Console की सबसे उपयोगी रिपोर्ट की सूची दी गई है. इसकी मदद से, आप प्रबंधित कर सकते हैं कि Google Search कैसे आपकी साइट को इंडेक्स, क्रॉल, और सर्व करता है.

  • जानना कि आपकी साइट के ख़िलाफ़ Google Search के मैन्युअल ऐक्शन जारी किए गए हैं या नहीं. अगर साइट पर मैन्युअल ऐक्शन लिया गया है, तो शायद Google के खोज नतीजों में साइट का कुछ हिस्सा या फिर पूरी साइट न दिखे. मैन्युअल ऐक्शन की रिपोर्ट में सभी तरह की समस्याएं दिखाई जाती हैं. साथ ही, यह भी बताया जाता है कि वे आपकी साइट के किस सेक्शन में मौजूद हैं और उनके बारे में ज़्यादा कहां से जाना जा सकता है.
  • कुछ समय के लिए, Google Search से पेज छिपाना. यूआरएल हटाने वाला टूल ऐसा तरीका है जिसकी मदद से, आपकी साइट के कॉन्टेंट को Google Search के नतीजों से तुरंत हटाया जा सकता है. जिस अनुरोध पर कार्रवाई हो चुकी है वह करीब छह महीनों तक रहता है. इसका हल ढूंढने के लिए इतना समय काफ़ी होता है. इस समय में, आप कॉन्टेंट को, दिखाने की अनुमति पाने के लिए तैयार कर सकते हैं या उसे स्थायी रूप से हटा सकते हैं.
  • Google को साइट माइग्रेट करने के बारे में बताना. अगर आप अपनी साइट को एक डोमेन या सबडोमेन से दूसरे पर भेजते हैं, तो पते में बदलाव वाला टूल, Google को आपके बदलाव के बारे में बता देता है. साथ ही, यह Google Search के नतीजों को आपकी पुरानी साइट से नई साइट पर ले जाने में मदद करता है.
  • अपने स्ट्रक्चर्ड डेटा के लागू होने से जुड़ी समस्याओं की समीक्षा करना. रिच नतीजों की स्थिति वाली रिपोर्ट दिखाती है कि Google आपकी साइट से कौनसे रिच नतीजे पढ़ सकता है और कौनसे नहीं. आपको उन गड़बड़ियों के बारे में जानकारी मिलेगी जो आपके पेजों को रिच नतीजों में दिखाने से रोकती हैं. साथ ही, आपको उन चेतावनियों के बारे में जानकारी मिलेगी जिनकी वजह से आपकी साइट कम दिखती है. आपको समस्याएं डीबग और ठीक करने के तरीकों के बारे में भी जानकारी मिलेगी.

वेब डेवलपर के लिए मददगार रिपोर्ट

यहां दी गई रिपोर्ट की मदद से, डेवलपर ऐसी वेबसाइटें बना सकते हैं जो अच्छी हों, खोज में दिख जाने वाली हों, और Google Search के लिए ऑप्टिमाइज़ की गई हों.

  • पूरी साइट को Search पर इंडेक्स करने से जुड़ी समस्याओं के बारे में जानना. इंडेक्स कवरेज रिपोर्ट दिखाती है कि किन पेजों में गड़बड़ियां या चेतावनियां हैं. इसके अलावा, वह दिखाती है कि किन पेजों को Search में शामिल नहीं किया गया है. साथ ही, इस रिपोर्ट में दिखाया जाता है कि वेबसाइट के पेजों को Google Search पर कितने इंप्रेशन मिले. इससे यह समझने में मदद मिलती है कि समस्याओं की वजह से आपके ऑर्गैनिक ट्रैफ़िक पर कैसे असर पड़ा होगा.
  • पेजों को Search पर इंडेक्स करने में होने वाली समस्याओं को डीबग करना. यूआरएल जांचने वाला टूल, वेबसाइट के पेजों की मौजूदा इंडेक्स स्थिति दिखाता है. साथ ही, यह लाइव यूआरएल की जांच करने, Google से किसी खास पेज को क्रॉल करने, और पेज के लोड किए रिसॉर्स और दूसरी जानकारी देखने के विकल्प भी देता है.
  • साइट पर असर डालने वाले खतरों को ढूंढना और उन्हें ठीक करना. सुरक्षा से जुड़ी समस्याओं की रिपोर्ट में तब चेतावनियां दिखाई जाती हैं, जब Google को पता चलता है कि किसी वेबसाइट को शायद हैक कर लिया गया है या ऐसे इस्तेमाल किया गया है जिससे साइट पर आने वाले लोगों या उनके डिवाइस को नुकसान पहुंच सकता है.
  • पक्का करना कि आपकी वेबसाइट के पेजों पर आपके उपयोगकर्ताओं का अनुभव अच्छा हो. वेबसाइट कैसा प्रदर्शन कर रही है इसके बारे में जानकारी देने वाली रिपोर्ट बताती है कि असल में इस्तेमाल के डेटा के मुताबिक आपके पेजों की परफ़ॉर्मेंस कैसी है. कभी-कभी इसे फ़ील्ड डेटा भी कहा जाता है.

Search Console की रिपोर्ट और टूल की पूरी सूची पाएं