मोबाइल साइट और वेब पेज के मोबाइल वर्शन को पहले इंडेक्स करने के सबसे सही तरीके

Google, किसी साइट के कॉन्टेंट के मोबाइल वर्शन का इस्तेमाल मुख्य रूप से, स्मार्टफ़ोन एजेंट को क्रॉल और रैंक करने के लिए करता है. इसे वेब पेज के मोबाइल वर्शन को पहले इंडेक्स करने की सुविधा कहते हैं.

Google Search के नतीजों में अपना कॉन्टेंट दिखाने के लिए, अपने पेजों को मोबाइल वर्शन के लिए उपलब्ध बनाना ज़रूरी नहीं है. हालांकि, हमारा सुझाव है कि आप ऐसा ज़रूर करें. आम तौर पर, ये सबसे सही तरीके मोबाइल साइटों पर लागू होते हैं. साथ ही, परिभाषा के हिसाब से ये तरीके, वेब पेज के मोबाइल वर्शन को पहले इंडेक्स करने की सुविधा पर भी लागू होते हैं.

वेब पेज के मोबाइल वर्शन को पहले इंडेक्स करने की सुविधा सभी नई वेबसाइटों के लिए डिफ़ॉल्ट रूप से चालू होती है. नई वेबसाइटों या उन वेबसाइटों के लिए इस सुविधा का इस्तेमाल पहले नहीं किया जा सकता जिनके बारे में Google Search को नहीं पता है. हालांकि, पुरानी या मौजूदा वेबसाइटों के पेजों को मॉनिटर करने और उनका आकलन करने के लिए हम अब भी, इस गाइड में दिए गए सबसे अच्छे तरीकों का इस्तेमाल करते हैं. Search Console में मौजूद किसी साइट के लिए, वेब पेज के मोबाइल वर्शन को पहले इंडेक्स करने की सुविधा कब से चालू की गई, हम इस बात की सूचना साइट के मालिकों को देते हैं.

आपके उपयोगकर्ताओं को सबसे अच्छा अनुभव मिले, यह पक्का करने के लिए, इस गाइड में बताए गए सबसे सही तरीके अपनाएं.

मोबाइल-फ़्रेंडली साइट बनाना

अगर आपने पहले से ही मोबाइल-फ़्रेंडली वेबसाइट नहीं बनाई है, तो मोबाइल फ़ोन से आपकी साइट पर आने वाले लोगों को अच्छा अनुभव मिल सकता है. मोबाइल-फ़्रेंडली साइट बनाने के लिए, यहां तीन कॉन्फ़िगरेशन दिए गए हैं:

  • रिस्पॉन्सिव डिज़ाइन: लोगों के पास चाहे कोई भी डिवाइस (डेस्कटॉप, टैबलेट, मोबाइल, बिना विज़ुअल वाला ब्राउज़र) हो, इसमें एक यूआरएल के लिए एक तय एचटीएमएल कोड का इस्तेमाल किया जाता है. हालांकि, इसमें स्क्रीन के साइज़ के हिसाब से कॉन्टेंट को दिखाया जा सकता है. Google, रिस्पॉन्सिव वेब डिज़ाइन (स्क्रीन के हिसाब से साइज़ बदलने वाला वेब डिज़ाइन) का सुझाव देता है, क्योंकि यह डिज़ाइन पैटर्न लागू करना और उसका रखरखाव करना सबसे आसान है.
  • डाइनैमिक सर्विंग: चाहे कोई भी डिवाइस हो, एक ही यूआरएल का इस्तेमाल करता है. हर डिवाइस के हिसाब से, एचटीएमएल का अलग वर्शन इस्तेमाल करने के लिए, यह कॉन्फ़िगरेशन user-agent स्निफिंग और Vary: user-agent एचटीटीपी रिस्पॉन्स हेडर पर निर्भर करता है.
  • अलग-अलग यूआरएल: हर डिवाइस और अलग-अलग यूआरएल के लिए, अलग-अलग एचटीएमएल का इस्तेमाल करता है. डाइनैमिक सर्विंग की तरह यह कॉन्फ़िगरेशन, साइट को डिवाइस के हिसाब से सही वर्शन पर रीडायरेक्ट करने के लिए user-agent और Vary एचटीटीपी हेडर पर निर्भर करता है.

इस गाइड का कॉन्टेंट, सिर्फ़ डाइनैमिक सर्विंग और अलग-अलग यूआरएल कॉन्फ़िगरेशन पर लागू होता है. रिस्पॉन्सिव डिज़ाइन के मामले में, पेजों के मोबाइल और डेस्कटॉप वर्शन पर कॉन्टेंट और मेटाडेटा एक जैसे होते हैं.

पक्का करना कि Google आपके कॉन्टेंट को ऐक्सेस और रेंडर कर सकता हो

पक्का करें कि Google आपके मोबाइल पेज के कॉन्टेंट और रिसॉर्स को ऐक्सेस और रेंडर कर सकता हो.

  • मोबाइल और डेस्कटॉप साइट, दोनों पर एक ही मेटा रोबोट टैग इस्तेमाल करें. अगर आपने मोबाइल साइट पर अलग मेटा रोबोट टैग (खास तौर पर noindex या nofollow टैग) का इस्तेमाल किया है, तो हो सकता है कि Google आपके पेज को क्रॉल और इंडेक्स न कर पाए. ऐसा साइट के वेब पेज के मोबाइल वर्शन को पहले इंडेक्स करने की सुविधा चालू होने पर होता है.
  • उपयोगकर्ताओं के इंटरैक्ट करने पर मुख्य कॉन्टेंट को धीमी रफ़्तार में लोड न करें. Google, ऐसे कॉन्टेंट को लोड नहीं करता है जिसे लोड करने के लिए, उपयोगकर्ताओं के इंटरैक्शन (उदाहरण के लिए, स्वाइप करना, क्लिक करना या टाइप करना) की ज़रूरत होती है. पक्का करें कि Google धीमी रफ़्तार से लोड होने वाला कॉन्टेंट इंडेक्स कर सके.
  • Google को अपने रिसॉर्स क्रॉल करने दें. कुछ रिसॉर्स में, मोबाइल साइट और डेस्कटॉप साइट, दोनों के अलग-अलग यूआरएल होते हैं. अगर आपको Google से अपने यूआरएल क्रॉल करवाने हैं, तो देख लें कि आपने यूआरएल को disallow डायरेक्टिव से ब्लॉक न किया हो.

पक्का करना कि डेस्कटॉप और मोबाइल वर्शन, दोनों का कॉन्टेंट एक जैसा हो

एक जैसा कॉन्टेंट होने पर भी, अगर डेस्कटॉप और मोबाइल साइट के डीओएम या लेआउट में अंतर है, तो Google दोनों वर्शन के कॉन्टेंट को अलग-अलग मान सकता है. हालांकि, डेस्कटॉप और मोबाइल वर्शन, दोनों पर एक जैसा कॉन्टेंट होने से यह पक्का होता है कि दोनों कीवर्ड की रैंक एक जैसी है.

  • देख लें कि आपकी मोबाइल साइट में वही कॉन्टेंट हो जो आपकी डेस्कटॉप साइट में है. अगर आपकी डेस्कटॉप साइट के मुकाबले मोबाइल साइट पर कम कॉन्टेंट है, तो आपको मोबाइल साइट को अपडेट करना चाहिए, ताकि उसका मुख्य कॉन्टेंट आपकी डेस्कटॉप साइट के बराबर हो. उपयोगकर्ता अनुभव को बेहतर बनाने के लिए, मोबाइल पर आपका डिज़ाइन अलग हो सकता है. उदाहरण के लिए, कॉन्टेंट को अकॉर्डियन या टैब में मूव करना; बस यह देख लें कि कॉन्टेंट डेस्कटॉप साइट की तरह हो, क्योंकि आपकी साइट के ज़्यादा से ज़्यादा कॉन्टेंट को मोबाइल साइट से इंडेक्स किया जाता है.
  • मोबाइल साइट पर, साफ़ और बेहतर जानकारी देने वाले वही टाइटल इस्तेमाल करें जो आपने डेस्कटॉप साइट पर किए हैं.

स्ट्रक्चर्ड डेटा की जांच करना

अगर आपकी साइट पर स्ट्रक्चर्ड डेटा है, तो देख लें कि यह साइट के दोनों वर्शन के लिए हो. इन चीज़ों की जांच की जा सकती है:

  • देख लें कि मोबाइल और डेस्कटॉप साइट, दोनों का स्ट्रक्चर्ड डेटा एक ही हो. अगर आपको तय करना है कि मोबाइल साइट पर किस तरह के स्ट्रक्चर्ड डेटा जोड़े जाएं, तो Breadcrumb, Product, और VideoObject स्ट्रक्चर्ड डेटा से शुरुआत करें.
  • स्ट्रक्चर्ड डेटा में सही यूआरएल का इस्तेमाल करें. देख लें कि मोबाइल वर्शन के स्ट्रक्चर्ड डेटा में मौजूद यूआरएल को मोबाइल यूआरएल में अपडेट कर दिया गया हो.
  • अगर आपने डेटा हाइलाइटर का इस्तेमाल किया है, तो उसे अपनी मोबाइल साइट पर अपडेट करें. अगर आपने स्ट्रक्चर्ड डेटा देने के लिए डेटा हाइलाइटर का इस्तेमाल किया है, तो नियमित रूप से डेटा हाइलाइटर डैशबोर्ड की जांच करते रहें. इससे आपको साइट के कुल डेटा में से काम का डेटा छांटने में होने वाली गड़बड़ियों का पता चलेगा.

अपनी साइट के दोनों वर्शन में एक ही मेटाडेटा डालना

देख लें कि आपकी साइट के दोनों वर्शन में, title एलिमेंट और मुख्य जानकारी एक जैसी हो.

अपने विज्ञापनों के प्लेसमेंट की जांच करना

विज्ञापनों की वजह से अपने मोबाइल पेज की रैंकिंग खराब न होने दें. मोबाइल डिवाइस पर विज्ञापन दिखाते समय, Better Ads Standard अपनाएं. उदाहरण के लिए, पेज के सबसे ऊपर दिख रहे विज्ञापन, मोबाइल डिवाइस पर ज़्यादा जगह लेते हैं. यह लोगों के लिए खराब अनुभव होता है

विज़ुअल कॉन्टेंट की जांच करना

इमेज की जांच करना

देख लें कि आपकी मोबाइल साइट पर मौजूद इमेज, इमेज दिखाने के सबसे सही तरीकों के मुताबिक हों. खास तौर पर, हमारा सुझाव है कि आप:

  • अच्छी क्वालिटी की इमेज दें. मोबाइल साइट पर बहुत छोटी या लो रिज़ॉल्यूशन वाली इमेज का इस्तेमाल न करें.
  • इमेज के लिए साइट पर काम करने वाला फ़ॉर्मैट इस्तेमाल करें. ऐसे फ़ॉर्मैट या टैग इस्तेमाल न करें जो साइट पर काम न करते हों. उदाहरण के लिए, Google पर SVG फ़ॉर्मैट की इमेज काम करती हैं, लेकिन हमारे सिस्टम किसी इनलाइन SVG के अंदर <image> टैग में .jpg इमेज को इंडेक्स नहीं कर सकते.
  • ऐसे यूआरएल इस्तेमाल न करें जो इमेज के लिए पेज लोड करने पर हर बार बदलते हों. अगर बार-बार यूआरएल बदले जाते हैं, तो Google आपके रिसॉर्स को ठीक तरह से प्रोसेस और इंडेक्स नहीं कर पाएगा.
  • देख लें कि मोबाइल साइट में इमेज के लिए वही वैकल्पिक लेख हो जो डेस्कटॉप साइट में है. मोबाइल साइट पर इमेज की जानकारी देने वाले वही वैकल्पिक लेख इस्तेमाल करें जिनका इस्तेमाल आपने डेस्कटॉप साइट पर किया है.
  • पक्का करें कि मोबाइल पेज के कॉन्टेंट की क्वालिटी उतनी ही अच्छी हो जितनी डेस्कटॉप पेज की है. मोबाइल साइट पर इमेज की जानकारी देने वाले वही शीर्षक, कैप्शन, फ़ाइलों के नाम, और टेक्स्ट इस्तेमाल करें जिन्हें आपने डेस्कटॉप साइट पर इस्तेमाल किया है.

वीडियो की जांच करना

देख लें कि आपकी मोबाइल साइट पर मौजूद वीडियो, वीडियो दिखाने के सबसे सही तरीके के मुताबिक हो. खास तौर पर, हमारा सुझाव है कि आप:

  • ऐसे यूआरएल इस्तेमाल न करें जो वीडियो के लिए पेज लोड करने पर हर बार बदलते हों. अगर बार-बार यूआरएल बदले जाते हैं, तो Google आपके रिसॉर्स को ठीक तरह से प्रोसेस और इंडेक्स नहीं कर पाएगा.
  • अपने वीडियो के लिए साइट पर काम करने वाला फ़ॉर्मैट इस्तेमाल करें और उन्हें साइट पर काम करने वाले टैग में डालें. पेज पर मौजूद एचटीएमएल टैग से वीडियो की पहचान होती है. उदाहरण के लिए: <video>, <embed> या <object>.
  • साइट के मोबाइल और डेस्कटॉप, दोनों वर्शन पर वीडियो का एक ही स्ट्रक्चर्ड डेटा इस्तेमाल करें. ज़्यादा जानकारी के लिए, अपने स्ट्रक्चर्ड डेटा की जांच करें.
  • वीडियो को पेज पर ऐसी जगह पर रखें जहां वह मोबाइल डिवाइस पर आसानी से दिखे. उदाहरण के लिए, अगर लोगों को मोबाइल पेज पर वीडियो देखने के लिए काफ़ी नीचे तक स्क्रोल करना पड़ता है, तो इससे वीडियो की रैंकिंग खराब हो सकती है.

अलग-अलग यूआरएल के लिए दूसरे सबसे सही तरीके

अगर आपकी साइट पर किसी पेज के डेस्कटॉप और मोबाइल वर्शन, दोनों के अलग-अलग यूआरएल (जिसे एम-डॉट के नाम से भी जाना जाता है) हैं, तो आपको दूसरे सबसे सही तरीके भी अपनाने चाहिए:

  • देख लें कि गड़बड़ी वाले पेज का स्टेटस, डेस्कटॉप और मोबाइल साइट, दोनों पर एक ही हो. अगर आपकी डेस्कटॉप साइट पर किसी पेज में सामान्य कॉन्टेंट है और आपकी मोबाइल साइट के वर्शन में उस पेज पर गड़बड़ी दिखती है, तो यह पेज, इंडेक्स में शामिल नहीं होगा.
  • देख लें कि आपके मोबाइल वर्शन में फ़्रैगमेंट यूआरएल नहीं हैं. यूआरएल का फ़्रैगमेंट वाला हिस्सा उसका आखिरी हिस्सा है, जो # से शुरू होता है. ज़्यादातर मामलों में, फ़्रैगमेंट यूआरएल इंडेक्स नहीं किए जा सकते. आपके डोमेन पर वेब पेज के मोबाइल वर्शन को पहले इंडेक्स करने की सुविधा चालू होने पर, ये पेज इंडेक्स में शामिल नहीं होंगे.
  • देख लें कि अलग-अलग कॉन्टेंट वाले डेस्कटॉप वर्शन के मोबाइल वर्शन एक जैसे हों. अगर आपके डोमेन पर मोबाइल वर्शन पहले इंडेक्स करने की सुविधा चालू है और मोबाइल डिवाइस पर अलग-अलग यूआरएल एक ही पेज (जैसे, होम पेज) पर ले जाते हैं, तो ये सभी पेज इंडेक्स में शामिल नहीं होंगे.
  • Search Console में अपनी साइट के दोनों वर्शन की पुष्टि करें, ताकि यह पक्का किया जा सके कि आपके पास दोनों वर्शन के लिए डेटा और मैसेज का ऐक्सेस है. जब Google आपकी साइट के लिए वेब पेज के मोबाइल वर्शन को पहले इंडेक्स करने की सुविधा पर स्विच करता है, तो आपको साइट का डेटा बदला हुआ लग सकता है.
  • अलग-अलग यूआरएल पर hreflang लिंक की जांच करें. जब rel=hreflang link एलिमेंट का इस्तेमाल अंतरराष्ट्रीय स्तर बनाने के लिए किया जाता है, तब मोबाइल और डेस्कटॉप के यूआरएल इस तरह लिंक करें कि उनमें गड़बड़ी न हो. आपके मोबाइल यूआरएल के hreflang से मोबाइल यूआरएल खुलना चाहिए और इसी तरह डेस्कटॉप यूआरएल को hreflang डेस्कटॉप यूआरएल पर ले जाना चाहिए.

    यहां किसी साइट के होम पेज के लिए hreflang का उदाहरण दिया गया है जिसके मोबाइल और डेस्कटॉप वर्शन, दोनों के अलग-अलग यूआरएल हैं.

    मोबाइल

    इस उदाहरण में, मोबाइल साइट का यूआरएल https://m.example.com/ है.

    <link rel="canonical" href="https://example.com/">
    <link rel="alternate" hreflang="es" href="https://m.example.com/es/">
    <link rel="alternate" hreflang="fr" href="https://m.example.com/fr/">
    <link rel="alternate" hreflang="de" href="https://m.example.com/de/">
    <link rel="alternate" hreflang="th" href="https://m.example.com/th/">

    डेस्कटॉप

    इस उदाहरण में, डेस्कटॉप साइट का यूआरएल https://example.com/ है.

    <link rel="canonical" href="https://example.com/">
    <link rel="alternate" media="only screen and (max-width: 640px)" href="https://m.example.com/">
    <link rel="alternate" hreflang="es" href="https://example.com/es/">
    <link rel="alternate" hreflang="fr" href="https://example.com/fr/">
    <link rel="alternate" hreflang="de" href="https://example.com/de/">
    <link rel="alternate" hreflang="th" href="https://example.com/th/">
  • देख लें कि आपकी मोबाइल साइट इतनी कारगर है कि वह आपकी साइट के मोबाइल वर्शन की क्रॉल दर में होने वाली संभावित बढ़ोतरी को संभाल पाए.
  • पुष्टि करें कि आपके robots.txt डायरेक्टिव आपकी साइट के दोनों वर्शन के लिए ठीक वैसा ही काम करते हैं जैसा आपको करवाना है. robots.txt फ़ाइल की मदद से साइट मालिक यह तय कर सकते हैं कि उनकी वेबसाइट के किन हिस्सों को क्रॉल किया जा सकता है और किन हिस्सों को नहीं. ज़्यादातर मामलों में, आपको मोबाइल और डेस्कटॉप, दोनों वर्शन के लिए एक जैसे robots.txt डायरेक्टिव का इस्तेमाल करना चाहिए.
  • अपने मोबाइल और डेस्कटॉप वर्शन के लिए, सही rel=canonical और rel=alternate link एलिमेंट इस्तेमाल करें. डेस्कटॉप यूआरएल हमेशा कैननिकल होता है और मोबाइल वर्शन उस यूआरएल का वैकल्पिक वर्शन होता है.

    यहां अलग-अलग यूआरएल साइट सेटअप के लिए, rel=canonical और rel=alternate का एक उदाहरण दिया गया है.

    मोबाइल

    इस उदाहरण में, मोबाइल साइट का यूआरएल https://m.example.com/ है और इसमें एक link एलिमेंट शामिल है, जो डेस्कटॉप यूआरएल पर कैननिकल यूआरएल के तौर पर ले जाता है.

    <link rel="canonical" href="https://example.com/">

    डेस्कटॉप

    इस उदाहरण में, डेस्कटॉप साइट का यूआरएल https://example.com/ है और इसमें एक link एलिमेंट शामिल है, जो खुद पर कैननिकल यूआरएल के तौर पर ले जाता है. इसके अलावा, इसमें एक और link एलिमेंट शामिल है, जो इस यूआरएल के वैकल्पिक वर्शन के तौर पर मोबाइल वर्शन पर ले जाता है.

    <link rel="canonical" href="https://example.com/">
    <link rel="alternate" media="only screen and (max-width: 640px)" href="https://m.example.com/">

समस्याओं को हल करना

यहां ऐसी आम गड़बड़ियों की सूची दी गई है जो साइटों पर वेब पेज के मोबाइल वर्शन को पहले इंडेक्स करने की सुविधा चालू होने से रोक सकती हैं या यह सुविधा चालू होने के बाद उनकी रैंकिंग में गिरावट ला सकती है. अगर आपकी साइट पर अब तक वेब पेज के मोबाइल वर्शन को पहले इंडेक्स करने की सुविधा चालू नहीं थी, लेकिन इसे चालू करने के बाद साइट की रैंकिंग में गिरावट आई या आपको Search Console में मैसेज मिला. ऐसे में आम गड़बड़ियों की सूची देखें और अपनी साइट की गड़बड़ियों को ठीक करें.

गड़बड़ियां

स्ट्रक्चर्ड डेटा मौजूद नहीं है

समस्या की वजह: मोबाइल पेज में वे सभी स्ट्रक्चर्ड डेटा मार्कअप मौजूद नहीं हैं जो डेस्कटॉप पेज में हैं.

समस्या हल करना

  1. पुष्टि करें कि स्ट्रक्चर्ड डेटा आपकी साइट के दोनों वर्शन (डेस्कटॉप और मोबाइल) पर उपलब्ध है.
  2. देख लें कि मोबाइल और डेस्कटॉप साइट, दोनों का स्ट्रक्चर्ड डेटा एक ही हो.
  3. स्ट्रक्चर्ड डेटा में सही यूआरएल का इस्तेमाल करें. देख लें कि मोबाइल वर्शन के स्ट्रक्चर्ड डेटा में मौजूद यूआरएल को सही यूआरएल से अपडेट कर दिया गया है.
  4. अपने स्ट्रक्चर्ड डेटा के लिए डेटा छांटने में होने वाली गड़बड़ियों की जांच करें. अगर आपने स्ट्रक्चर्ड डेटा देने के लिए डेटा हाइलाइटर का इस्तेमाल किया है, तो नियमित रूप से डेटा हाइलाइटर डैशबोर्ड की जांच करें. इससे आपको साइट के कुल डेटा में से काम का डेटा छांटने में होने वाली गड़बड़ियों का पता चलेगा.
  5. यूआरएल जांचने वाला टूल इस्तेमाल करके देख लें कि कॉन्टेंट, रेंडर किए गए पेज पर दिख रहा है या नहीं. रेंडर किया गया पेज आपके पेज का वह वर्शन होता है जो Google को दिखता है.

पेजों पर noindex टैग

समस्या की वजह: noindex टैग का इस्तेमाल करके, मोबाइल पेज को इंडेक्स करने पर रोक लगाई गई है.

समस्या ठीक करें: मोबाइल और डेस्कटॉप साइट पर एक जैसे मेटा रोबोट टैग इस्तेमाल करें. मोबाइल पेज पर noindex टैग इस्तेमाल न करें. अगर आपने ऐसा किया, तो आपकी साइट पर वेब पेज के मोबाइल वर्शन को पहले इंडेक्स करने की सुविधा चालू होने पर, Google आपके पेज को इंडेक्स नहीं कर पाएगा.

इमेज मौजूद नहीं है

समस्या की वजह: मोबाइल पेज पर वे सभी अहम इमेज मौजूद नहीं हैं जो डेस्कटॉप पेज पर हैं.

समस्या हल करना

  1. देख लें कि आपकी मोबाइल साइट में वही कॉन्टेंट हो जो आपकी डेस्कटॉप साइट में है. अगर आपकी डेस्कटॉप साइट के मुकाबले मोबाइल साइट पर कम कॉन्टेंट है, तो आपको अपनी मोबाइल साइट अपडेट करनी चाहिए, ताकि उसका मुख्य कॉन्टेंट आपकी डेस्कटॉप साइट के बराबर हो. सिर्फ़ मोबाइल साइट पर दिखाया गया कॉन्टेंट ही इंडेक्स करने के लिए इस्तेमाल होता है.
  2. मोबाइल साइट और डेस्कटॉप साइट पर एक जैसे मेटा रोबोट टैग इस्तेमाल करें. मोबाइल पेज पर nofollow टैग इस्तेमाल न करें. अगर आपने ऐसा किया, तो आपकी साइट पर वेब पेज के मोबाइल वर्शन को पहले इंडेक्स करने की सुविधा चालू होने पर, Google आपके पेज पर इमेज क्रॉल और इंडेक्स नहीं कर पाएगा.
  3. इमेज के लिए साइट पर काम करने वाला फ़ॉर्मैट और टैग इस्तेमाल करें. उदाहरण के लिए, Google पर SVG फ़ॉर्मैट की इमेज काम करती हैं, लेकिन हमारे सिस्टम किसी इनलाइन SVG के अंदर <image> टैग में .jpg इमेज को इंडेक्स नहीं कर सकते.
  4. उपयोगकर्ताओं के इंटरैक्ट करने पर मुख्य कॉन्टेंट को धीमी रफ़्तार में लोड न करें. Google, ऐसे कॉन्टेंट को लोड नहीं करता है जिसे लोड करने के लिए, उपयोगकर्ताओं के इंटरैक्शन (उदाहरण के लिए, स्वाइप करना, क्लिक करना या टाइप करना) की ज़रूरत होती है. पक्का करें कि Google धीमी रफ़्तार से लोड होने वाला कॉन्टेंट इंडेक्स कर सके.

ब्लॉक की गई इमेज

समस्या की वजह: मोबाइल पेज पर एक अहम इमेज को robots.txt से ब्लॉक किया गया है.

समस्या ठीक करें: Google को आपके रिसॉर्स क्रॉल करने दें. कुछ इमेज के लिए मोबाइल और डेस्कटॉप साइट, दोनों पर अलग-अलग यूआरएल होते हैं. अगर आपको Google से अपने यूआरएल क्रॉल करवाने हैं, तो उन्हें disallow डायरेक्टिव से ब्लॉक न करें.

हल्की क्वालिटी की इमेज

समस्या की वजह: मोबाइल पेज पर एक अहम इमेज या तो बहुत छोटी है या लो रिज़ॉल्यूशन की है.

समस्या ठीक करें: अच्छी क्वालिटी की इमेज दें. मोबाइल साइट पर बहुत छोटी या लो रिज़ॉल्यूशन वाली इमेज का इस्तेमाल न करें.

वैकल्पिक लेख मौजूद नहीं है

समस्या की वजह: मोबाइल पेज पर एक अहम इमेज का वैकल्पिक लेख मौजूद नहीं है.

समस्या ठीक करें: अपनी मोबाइल साइट पर इमेज के लिए, जानकारी देने वाला वही वैकल्पिक लेख इस्तेमाल करें जिसका इस्तेमाल आपने डेस्कटॉप साइट पर किया है.

पेज का टाइटल मौजूद नहीं है

समस्या की वजह: मोबाइल पेज का टाइटल मौजूद नहीं है.

समस्या ठीक करें: देख लें कि साइट के दोनों वर्शन में, टाइटल और मुख्य जानकारी एक जैसी हो.

मुख्य जानकारी मौजूद नहीं है

समस्या की वजह: मोबाइल पेज में मुख्य जानकारी मौजूद नहीं है.

समस्या ठीक करें: देख लें कि साइट के दोनों वर्शन में, टाइटल और मुख्य जानकारी एक जैसी हो.

मोबाइल यूआरएल से गड़बड़ी वाला पेज खुल रहा है

समस्या की वजह: मोबाइल पेज से गड़बड़ी वाला पेज खुल रहा है.

समस्या ठीक करें: देख लें कि गड़बड़ी वाले पेज की स्थिति, डेस्कटॉप और मोबाइल साइट, दोनों पर एक जैसी हो. अगर आपकी डेस्कटॉप साइट पर किसी पेज में सामान्य कॉन्टेंट है और आपकी मोबाइल साइट के वर्शन में उस पेज पर गड़बड़ी दिखती है, तो यह पेज, इंडेक्स में शामिल नहीं होगा.

मोबाइल यूआरएल में ऐंकर फ़्रैगमेंट है

समस्या की वजह: मोबाइल यूआरएल में एक ऐंकर फ़्रैगमेंट मौजूद है. Google ऐसे फ़्रैगमेंट वाले यूआरएल को इंडेक्स नहीं कर सकता.

समस्या ठीक करें: देख लें कि आपके मोबाइल वर्शन में फ़्रैगमेंट यूआरएल न हों. ज़्यादातर मामलों में, फ़्रैगमेंट यूआरएल इंडेक्स नहीं किए जा सकते. आपके डोमेन पर वेब पेज के मोबाइल वर्शन को पहले इंडेक्स करने की सुविधा चालू होने पर, ये पेज इंडेक्स में शामिल नहीं होंगे.

मोबाइल पेज को robots.txt से ब्लॉक किया गया

समस्या की वजह: मोबाइल पेज को robots.txt नियम से ब्लॉक किया गया है.

समस्या ठीक करें: पुष्टि करें कि आपके robots.txt डायरेक्टिव और रोबोट मेटा टैग, आपकी साइट के दोनों वर्शन पर वैसा ही काम करते हैं जैसा आपको करवाना है. अपनी साइट के मोबाइल और डेस्कटॉप, दोनों वर्शन के लिए एक ही robots.txt डायरेक्टिव इस्तेमाल करें.

डुप्लीकेट मोबाइल पेज टारगेट

समस्या की वजह: कई डेस्कटॉप पेज, एक ही मोबाइल पेज पर रीडायरेक्ट होते हैं.

समस्या ठीक करें: देख लें कि अलग-अलग कॉन्टेंट वाले डेस्कटॉप वर्शन के मोबाइल वर्शन पर भी वही कॉन्टेंट हो. अगर आपके डोमेन पर, वेब पेज के मोबाइल वर्शन को पहले इंडेक्स करने की सुविधा चालू होने के बाद, मोबाइल डिवाइस पर मौजूद अलग-अलग यूआरएल एक ही पेज पर ले जाते हैं, तो ये सभी पेज, इंडेक्स में शामिल नहीं होंगे.

डेस्कटॉप साइट, मोबाइल होम पेज पर रीडायरेक्ट करती है

समस्या की वजह: आपकी डेस्कटॉप साइट के ज़्यादातर या सभी पेज, मोबाइल साइट के होम पेज पर रीडायरेक्ट करते हैं.

समस्या ठीक करें: देख लें कि मोबाइल वर्शन भी डेस्कटॉप वर्शन के जैसा ही हो. अगर मोबाइल डिवाइस पर मौजूद अलग-अलग यूआरएल, होम पेज पर रीडायरेक्ट करते हैं, तो आपके डोमेन पर वेब पेज के मोबाइल वर्शन को पहले इंडेक्स करने की सुविधा चालू होने पर, ये सभी पेज, इंडेक्स में शामिल नहीं किए जाएंगे.

पेज की क्वालिटी से जुड़ी समस्याएं

समस्या की वजह: मोबाइल पेज में विज्ञापन, कॉन्टेंट मौजूद न होने, टाइटल या पेज पर मौजूद इमेज के बारे में जानकारी देने वाले एलिमेंट से जुड़ी समस्याएं हैं.

समस्या हल करना:

  1. विज्ञापनों की वजह से अपने मोबाइल पेज की रैंकिंग खराब न होने दें. मोबाइल डिवाइस पर विज्ञापन दिखाते समय, Better Ads Standard अपनाएं.
  2. देख लें कि आपकी मोबाइल साइट पर वही कॉन्टेंट हो जो आपकी डेस्कटॉप साइट पर है. अगर आपकी डेस्कटॉप साइट के मुकाबले मोबाइल साइट पर कम कॉन्टेंट है, तो आपको अपनी मोबाइल साइट अपडेट करनी चाहिए, ताकि उसका मुख्य कॉन्टेंट आपकी डेस्कटॉप साइट के बराबर हो. सिर्फ़ मोबाइल साइट पर दिखाया गया कॉन्टेंट ही इंडेक्स करने के लिए इस्तेमाल होता है.
  3. देख लें कि आपने मोबाइल साइट पर साफ़ जानकारी देने वाले वही टाइटल इस्तेमाल किए हैं जो डेस्कटॉप साइट हैं.
  4. मोबाइल साइट पर इमेज की जानकारी देने वाले वही टाइटल, कैप्शन, फ़ाइलों के नाम, और टेक्स्ट इस्तेमाल करें जिनका आपने डेस्कटॉप साइट पर इस्तेमाल किया है.

वीडियो से जुड़ी समस्याएं

समस्या की वजह: मोबाइल पेज पर एक वीडियो ऐसे फ़ॉर्मैट में है जो साइट के मोबाइल वर्शन पर काम नहीं करता. यह ऐसी जगह पर मौजूद है जहां इसे ढूंढना मुश्किल है. साथ ही, इसमें मुख्य जानकारी मौजूद नहीं है या यह धीरे लोड होता है.

समस्या हल करना:

  1. अपने वीडियो के लिए, साइट पर काम करने वाले फ़ॉर्मैट का इस्तेमाल करें और उन्हें साइट पर काम करने वाले टैग में डालें. पेज पर मौजूद एचटीएमएल टैग से वीडियो की पहचान होती है. उदाहरण के लिए: <video>, <embed> या <object>.
  2. उपयोगकर्ताओं के इंटरैक्ट करने पर मुख्य कॉन्टेंट को धीमी रफ़्तार में लोड न करें. Google, ऐसे कॉन्टेंट को लोड नहीं करता है जिसे लोड करने के लिए, उपयोगकर्ताओं के इंटरैक्शन (उदाहरण के लिए, स्वाइप करना, क्लिक करना या टाइप करना) की ज़रूरत होती है. पक्का करें कि Google धीमी रफ़्तार से लोड होने वाला कॉन्टेंट इंडेक्स कर सके.
  3. वीडियो को मोबाइल साइट पर आसानी से ढूंढी जा सकने वाली जगह पर रखें. उदाहरण के लिए, अगर लोगों को मोबाइल पेज पर वीडियो देखने के लिए काफ़ी नीचे तक स्क्रोल करना पड़ता है, तो इससे वीडियो की रैंकिंग खराब हो सकती है.

होस्टलोड करने से जुड़ी समस्याएं

समस्या की वजह: कुछ होस्ट के पास ज़रूरत के मुताबिक होस्टलोड नहीं है.

समस्या ठीक करें: देख लें कि आपकी मोबाइल साइट इतनी कारगर है कि वह आपकी साइट के मोबाइल वर्शन की क्रॉल दर में होने वाली संभावित बढ़ोतरी को संभाल पाए.