Google Search के लिए, साइन किए हुए एक्सचेंज के साथ शुरुआत करना

साइन किए हुए एक्सचेंज (एसएक्सजी) की मदद से Google Search, उपयोगकर्ता की निजता को बनाए रखते हुए आपके कॉन्टेंट को प्रीफ़ेच कर सकता है. इसका मतलब यह है कि Google Search पर दिखने वाले एएमपी और बिना एएमपी, दोनों ही नतीजे कुछ मुख्य रिसॉर्स (जैसे कि एचटीएमएल, JavaScript, सीएसएस, इमेज या फ़ॉन्ट) को प्रीफ़ेच कर सकते हैं. एसएक्सजी के साथ काम करने वाली वेबसाइट के मामले में ही ऐसा होता है. इस दौरान उपयोगकर्ताओं की निजता बनी रहती है.

जब उपयोगकर्ता किसी नतीजे पर क्लिक करता है, तो वेब पेज बहुत जल्दी रेंडर होने लगता है, क्योंकि मुख्य रिसॉर्स पहले से उपलब्ध होते हैं. इससे, उपयोगकर्ता को बेहतर अनुभव मिलता है. इसका मतलब यह हो सकता है कि आपके कॉन्टेंट के लिए, सबसे बड़े कॉन्टेंटफ़ुल पेंट (एलसीपी) का स्कोर कम है. Google Search में, रैकिंग के लिए जो तरीका अपनाया जाता है उसमें एसएक्सजी के इस्तेमाल का सीधे तौर पर कोई असर नहीं पड़ता. हालांकि, कम एलसीपी स्कोर, पेज की रैंकिंग पर असर डाल सकता है, क्योंकि पेज की परफ़ॉर्मेंस का रैंकिंग पर असर पड़ता है.

एसएक्सजी को लागू करना

एसएक्सजी को लागू करने के लिए, web.dev की पूरी जानकारी वाली गाइड देखें. लागू करने के बाद, परफ़ॉर्मेंस में एसएक्सजी की मदद से हुए सुधार को मापने और उसे ऑप्टिमाइज़ करने के लिए, इस गाइड का इस्तेमाल करें.

एएमपी पेजों के लिए, amp.dev की पूरी जानकारी वाली गाइड देखें.

Google आपके कॉन्टेंट को प्रीफ़ेच करने के लिए, एसएक्सजी की कैश मेमोरी का इस्तेमाल करता है. Google, कैश मेमोरी में सेव किए गए इन एसएक्सजी को कई बार दिखा सकता है.

यह पक्का करने के लिए कि Google Search में अप-टू-डेट कॉन्टेंट दिखे, एसएक्सजी की समयसीमा खत्म होने की जानकारी सही तरीके से सेट करें. इसका बुनियादी नियम यह है कि आपको पक्का करना होगा कि समयसीमा खत्म होने की तारीख, नीचे बताई गई इन दोनों तारीखों से कम हो:

  • आपके एचटीटीपी हेडर की मदद से, तय की गई कैश मेमोरी की समयसीमा खत्म होने की तारीख
  • अगर कॉन्टेंट, JavaScript या इनलाइन JavaScript में बनाया गया है, तो आने वाले एक दिन बाद की तारीख. अगर ऐसा नहीं है, तो आने वाले सात दिन बाद की तारीख

एक से ज़्यादा डिवाइसों पर अपने कॉन्टेंट को ठीक से दिखाने के लिए, ये तरीके अपनाएं:

  1. शॉपिंग कार्ट जैसे अपने हिसाब से बनाए गए कॉन्टेंट को लेज़ी लोड वाले एलिमेंट में ले जाएं. ऐसे एलिमेंट, एसएक्सजी का हिस्सा नहीं होते. इसके अलावा, साइन किया गया Vary: Cookie हेडर भी जोड़ें. इस हेडर के साथ एसएक्सजी, सिर्फ़ आपकी वेबसाइट पर आने वाले उन लोगों को दिखेंगे जिनके ब्राउज़र पर आपकी साइट के लिए कुकी सेव नहीं है.
  2. रिस्पॉन्सिव वेब डिज़ाइन (स्क्रीन के हिसाब से साइज़ बदलने वाला वेब डिज़ाइन) की मदद से पेज बनाएं. इसके अलावा, अपने डेस्कटॉप और मोबाइल पेजों को अलग-अलग यूआरएल से दिखाएं या supported-media मेटा टैग का इस्तेमाल करके, पेजों की जानकारी दें, ताकि यह बताया जा सके कि वे पेज रिस्पॉन्सिव नहीं हैं. उदाहरण के लिए, पेज के <head> एलिमेंट में, यह टैग जोड़ें:
    <meta name=supported-media content="only screen and (max-width: 640px)">

एसएक्सजी को मॉनिटर और डीबग करना

एसएक्सजी को डीबग करने के लिए, जिन टूल का इस्तेमाल किया जा सकता है उनकी सूची देखने के लिए, एसएक्सजी टूल के लिए web.dev की गाइड देखें.

अगर Googlebot किसी एसएक्सजी को पार्स नहीं कर पाता है, तो वह text/html वैरिएंट को वापस पाने के लिए, Accept हेडर में application/signed-exchange;v=b3 के बिना, यूआरएल को फिर से क्रॉल कर सकता है. एसएक्सजी को इंडेक्स करने में गड़बड़ी होने पर Google Search, एसएक्सजी के बिना मूल यूआरएल को लिंक करेगा.

एएमपी वाले पेजों के लिए, Search Console में एएमपी की स्टेटस रिपोर्ट का इस्तेमाल करें. इससे, एसएक्सजी की गड़बड़ियां मॉनिटर की जा सकेंगी.

Google एसएक्सजी कैश मेमोरी को डीबग करना

यह जानने के लिए कि एसएक्सजी, कैश मेमोरी की ज़रूरी शर्तों को पूरा करता है या नहीं, एसएक्सजी वैलिडेटर वाले Chrome एक्सटेंशन का इस्तेमाल करें.

इसके अलावा, सीधे Google एसएक्सजी कैश मेमोरी में क्वेरी करें. उदाहरण के लिए, अगर एसएक्सजी यूआरएल https://signed-exchange-testing.dev/sxgs/valid.html है, तो कैश मेमोरी यूआरएल को इस तरह बनाएं:

https://signed--exchange--testing-dev.webpkgcache.com/doc/-/s/signed-exchange-testing.dev/sxgs/valid.html

सबडोमेन और यूआरएल पाथ के सफ़िक्स की कंप्यूटिंग के लिए जो एल्गोरिदम बनाया जाता है वह एएमपी कैश के लिए बने एल्गोरिदम जैसा ही होता है. हालांकि, इन्फ़िक्स स्ट्रिंग /doc/-/ अलग होता है.

अगर सर्वर से मिलने वाला रिस्पॉन्स एसएक्सजी है, तो इसका मतलब यह है कि मूल सर्वर से मिलने वाला रिस्पॉन्स, Google एसएक्सजी कैश मेमोरी से जुड़ी ज़रूरी शर्तों को पूरा करता है. अगर ऐसा नहीं है, तो इस रिस्पॉन्स में ऐसा एचटीटीपी हेडर मौजूद होगा जिसमें गड़बड़ी की जानकारी होगी.

  • अगर रिस्पॉन्स में Warning हेडर है, तो यह उस गड़बड़ी को दिखाता है जिसकी वजह से एसएक्सजी, कैश मेमोरी से जुड़ी ज़रूरी शर्तों को पूरा नहीं कर सका.
  • अगर रिस्पॉन्स में Location हेडर है, तो इसका मतलब है कि इसे अभी तक कैश मेमोरी ने फ़ेच नहीं किया है. इस रिस्पॉन्स को एसएक्सजी में गड़बड़ी नहीं माना जाता है.

रिस्पॉन्स चाहे कुछ भी हो, अपडेट की गई कॉपी के लिए, कैश मेमोरी मूल यूआरएल का अनुरोध करती है. यह अनुरोध किया जाता है या नहीं और कब किया जाता है, यह कई बातों पर निर्भर करता है. इसमें, आपकी साइट के लिए Googlebot की क्रॉल दर भी शामिल है.

एसएक्सजी, Google की कैश मेमोरी में एसएक्सजी साइन वाली expires वैल्यू से ज़्यादा समय के लिए सेव नहीं किए जाते हैं. इसके अलावा, एसएक्सजी रिस्पॉन्स के, बिना साइन वाले हेडर की फ़्रेशनेस लाइफ़टाइम की कैश मेमोरी को सेव नहीं किया जाता है. यहां फ़्रेशनेस लाइफ़टाइम का मतलब है, मूल सर्वर से जनरेट होने और समयसीमा खत्म होने के बीच का समय.

एएमपी वाले पेजों के लिए, आपके पास यूआरएल जांचने वाले टूल का इस्तेमाल करके, कैश में होने वाली गड़बड़ियों को डीबग करने का विकल्प होता है.

अप-टू-डेट रहें

webpackaging-announce के ईमेल पाने वाले लोगों की सूची में शामिल हों और इन बदलावों के बारे में अप-टू-डेट रहें:

  • Google एसएक्सजी कैश मेमोरी में होने वाले बदलाव, जो नई सुविधाओं को चालू करते हैं या पहले से मौजूद सुविधाओं को रोक देते हैं.
  • एसएक्सजी टूल वेब पैकेजर, NGINX एसएक्सजी मॉड्यूल, और libsxg में होने वाले अहम बदलाव.

अगर आपको Google Search पर एसएक्सजी के बारे में कोई सवाल पूछना है, तो Search Central के सहायता समुदाय पर जाएं.