Sitelinks खोज बॉक्स

साइटलिंक खोज बॉक्स की मदद से, उपयोगकर्ता आपकी साइट या ऐप्लिकेशन को खोज नतीजों वाले पेज पर जल्दी खोज कर सकते हैं. खोज बॉक्स में रीयल-टाइम सुझाव और दूसरी सुविधाएं होती हैं.

जब Google Search पर आपकी वेबसाइट खोज के नतीजे के तौर पर दिखती है, तब आपकी वेबसाइट के साथ अपने-आप एक खोज बॉक्स भी दिखाया जा सकता है. इसके लिए आपको कुछ भी करने की ज़रूरत नहीं है. इस खोज बॉक्स को Google Search चलाता है. हालांकि, इससे आपको WebSite स्ट्रक्चर्ड डेटा को जोड़कर, जानकारी देने में मदद मिलती है. इससे Google को आपकी साइट को अच्छे से समझने में भी मदद मिल सकती है.

साइटलिंक के खोज बॉक्स को दिखाने का तरीका

अपनी साइट को खोज बॉक्स के साथ Google Search के नतीजों में दिखाने के लिए, यह तरीका अपनाएं:

  1. अपनी वेबसाइट या Android ऐप्लिकेशन पर काम करने वाला सर्च इंजन इंस्टॉल करें.

    Sitelink की खोज क्वेरी, उपयोगकर्ता को आपकी साइट या ऐप्लिकेशन के खोज नतीजों वाले पेज पर भेज देती है. इसलिए, इस सुविधा को चालू करने के लिए आपको ठीक तरीके से काम कर रहे एक सर्च इंजन की ज़रूरत होगी.

    • वेबसाइटें: अपनी वेबसाइट के लिए एक सर्च इंजन सेट अप करें. यह सुविधा, उपयोगकर्ता की क्वेरी को आपके स्ट्रक्चर्ड डेटा में तय किए गए सिंटैक्स का इस्तेमाल करके, टारगेट पेज तक पहुंचाती है. इसके लिए ज़रूरी है कि UTF-8 कोड में बदली गई क्वेरी आपके सर्च इंजन पर काम करती हों.
    • ऐप्लिकेशन: अपने ऐप्लिकेशन पर सर्च इंजन इस्तेमाल करने का तरीका जानने के लिए Android डेवलपर साइट का Search की खास जानकारी देखें. आपका Android ऐप्लिकेशन, खोज के नतीजों वाले ACTION_VIEW इंटेंट के साथ काम करना चाहिए. इसके लिए आपके मार्कअप की potentialAction.target प्रॉपर्टी में मेल खाने वाला डेटा यूआरआई तय करें.
  2. अपनी साइट के लिए होम पेज पर WebSite स्ट्रक्चर्ड डेटा एलिमेंट का इस्तेमाल करें. इस सुविधा को चालू करने के लिए ऐप्लिकेशन से जुड़ी एक वेबसाइट होनी ज़रूरी है, चाहे उस वेबसाइट पर सिर्फ़ एक पेज हो. इस बारे में कुछ और दिशा-निर्देश:
    • इस मार्कअप को सिर्फ़ होम पेज पर जोड़ें, किसी दूसरे पेज पर नहीं.
    • वेबसाइट के लिए हमेशा एक SearchAction बनाना चाहिए. अगर वेबसाइट खोज ऐप्लिकेशन की सुविधा देती है, तो दूसरा विकल्प भी बना सकते हैं. आपका ज़्यादा पसंदीदा खोज टारगेट, ऐप्लिकेशन होने पर भी आपके पास वेबसाइट के लिए हमेशा एक SearchAction होना चाहिए. इससे यह पक्का होता है कि अगर उपयोगकर्ता, खोज के लिए Android फ़ोन का इस्तेमाल नहीं कर रहा है या उसने आपके Android ऐप्लिकेशन को इंस्टॉल नहीं किया है, तो भी खोज के नतीजे उसे आपकी वेबसाइट पर ले जाते हैं.
  3. ज़्यादा बेहतर नतीजों (रिच रिज़ल्ट) के टेस्ट की मदद से अपने स्ट्रक्चर्ड डेटा की पुष्टि करें.
  4. अपने सर्च इंजन के इस्तेमाल होने की पुष्टि करें. इसके लिए अपने स्ट्रक्चर्ड डेटा से WebSite.potentialAction.target यूआरएल को कॉपी करके {search_term_string} जांच क्वेरी से बदलें. इसके बाद, उस यूआरएल को वेब ब्राउज़र पर ब्राउज़ करें. उदाहरण के लिए, अगर आपकी वेबसाइट example.com है और आप "kittens" क्वेरी को आज़माकर देखना चाहते हैं, तो आप https://www.example.com/search/?q=kittens ब्राउज़ करेंगे.
  5. rel="canonical" लिंक एलिमेंट का इस्तेमाल करके अपने डोमेन के होम पेज के सभी वेरिएंट पर पसंदीदा कैननिकल यूआरएल सेट करें. यह आपके मार्कअप के लिए सही यूआरएल चुनने में Google Search की मदद करता है. आपके सर्वर पर UTF-8 की कैरेक्टर एन्कोडिंग काम करनी चाहिए.
  6. ऐप्लिकेशन के लिए वही इंटेंट फ़िल्टर लगाएं जिससे आपके मार्कअप के ऐप्लिकेशन टारगेट में दिया हुआ यूआरएल सही से काम कर सके. Google Search, यूआरएल के लिए इंटेंट फ़िल्टर कैसे बनाना है, यह जानने के लिए Android के लिए Firebase ऐप्लिकेशन सूची देखें.

उदाहरण

यहां Google पर "Pinterest" के लिए खोज के नतीजे का एक उदाहरण दिया गया है जिससे Pinterest की साइटलिंक का खोज बॉक्स दिखता है.

Sitelinks की खोज बॉक्स इस्तेमाल में है

यहां कुछ ऐसे मार्कअप के उदाहरण दिए गए हैं जिनकी मदद से साइटलिंक का खोज बॉक्स जोड़ा जाएगा जो वेबसाइट के कस्टम सर्च इंजन का इस्तेमाल करता है.

JSON-LD

यहां JSON-LD में एक उदाहरण दिया गया है:


<html>
  <head>
    <title>The title of the page</title>
    <script type="application/ld+json">
    {
      "@context": "https://schema.org",
      "@type": "WebSite",
      "url": "https://www.example.com/",
      "potentialAction": {
        "@type": "SearchAction",
        "target": "https://query.example.com/search?q={search_term_string}",
        "query-input": "required name=search_term_string"
      }
    }
    </script>
  </head>
  <body>
  </body>
</html>
माइक्रोडेटा

यहां माइक्रोडेटा में एक उदाहरण दिया गया है:


<div itemscope itemtype="https://schema.org/WebSite">
  <meta itemprop="url" content="https://www.example.com/"/>
  <form itemprop="potentialAction" itemscope itemtype="https://schema.org/SearchAction">
    <meta itemprop="target" content="https://query.example.com/search?q={search_term_string}"/>
    <input itemprop="query-input" type="text" name="search_term_string" required/>
    <input type="submit"/>
  </form>
</div>
  

यहां JSON-LD में साइट और ऐप्लिकेशन का उदाहरण दिया गया है:

<html>
  <head>
    <title>The title of the page</title>
    <script type="application/ld+json">
    {
      "@context": "https://schema.org",
      "@type": "WebSite",
      "url": "https://www.example.com/",
      "potentialAction": [{
        "@type": "SearchAction",
        "target": "https://query.example.com/search?q={search_term_string}",
        "query-input": "required name=search_term_string"
      },{
        "@type": "SearchAction",
        "target": "android-app://com.example/https/query.example.com/search/?q={search_term_string}",
        "query-input": "required name=search_term_string"
      }]
    }
    </script>
  </head>
  <body>
  </body>
</html>

दिशा-निर्देश

अपनी साइट को ज़्यादा बेहतर नतीजे (रिच रिज़ल्ट) के तौर पर दिखाने के लिए, आपको इन दिशा-निर्देशों का पालन करना होगा.

Google Search आपकी साइट पर एक साइटलिंक का खोज बॉक्स जोड़ सकता है, भले ही यहां बताया गया स्ट्रक्चर्ड डेटा उसमें शामिल हो या न हो. हालांकि, आप अपने होम पेज पर नीचे दिया गया मेटा टैग जोड़कर इसे रोक सकते हैं:

<meta name="google" content="nositelinkssearchbox" />

अलग-अलग तरह के स्ट्रक्चर्ड डेटा की जानकारी

अपने कॉन्टेंट को साइटलिंक के खोज बॉक्स के साथ दिखाने के लिए, ज़रूरी प्रॉपर्टी को शामिल करें.

बदला गया WebSite किस तरह का है

Google Search, वेबसाइट और ऐप्लिकेशन दोनों के खोज बॉक्स के लिए बदले गए WebSite के अलग-अलग स्ट्रक्चर्ड डेटा का इस्तेमाल करता है. WebSite की पूरी जानकारी schema.org पर दी गई है. हालांकि, Google Search पूरी तरह से मानकों का पालन नहीं करता. नीचे दी गई जानकारी में कोई बदलाव नहीं हो सकता.

ज़रूरी प्रॉपर्टी
potentialAction

एक या दो SearchAction ऑब्जेक्ट की श्रेणी

यह ऑब्जेक्ट उस यूआरआई के बारे में बताता है जिसे क्वेरी भेजनी है. साथ ही, यह भेजे जाने वाले अनुरोध के सिंटैक्स के बारे में भी बताता है. आपको एक वेबपेज या इंटेंट हैंडलर जोड़ना होगा जो अनुरोध ले सके और सबमिट की गई स्ट्रिंग के बारे में सही खोज कर सके. अगर उपयोगकर्ता Android ऐप्लिकेशन इस्तेमाल नहीं करता (या Android ऐप्लिकेशन इस्तेमाल करता है, लेकिन Android इंटेंट टारगेट ठीक नहीं है), तो खोज बॉक्स क्वेरी के वेबसाइट वर्शन को बताई गई जगह पर भेजेगा. अगर उपयोगकर्ता Android डिवाइस इस्तेमाल करता है और Android इंटेंट यूआरआई के हिसाब से ठीक है, तो वह उस इंटेंट पर भेज देगा.

डेस्कटॉप खोज केस चालू करने के लिए, आपको हमेशा एक वेबसाइट SearchAction बनानी चाहिए. अगर वह ऐप्लिकेशन खोजने की सुविधा देता है, तो आप अपने ऐप्लिकेशन के लिए अलग से एक SearchAction ऑब्जेक्ट तय कर सकते हैं. हर SearchAction ऑब्जेक्ट में ये चीज़ें होती हैं:

potentialAction.query-input

Text

लिटरल स्ट्रिंग required name = search_term_string का इस्तेमाल करें या target में आपने जो भी प्लेसहोल्डर इस्तेमाल किया हो उसका इस्तेमाल करें.

potentialAction.target

Text

इस फ़ॉर्मैट में स्ट्रिंग: search_handler_uri {search_term_string}

उदाहरण के लिए:

https://query.example.com/search?q={search_term_string}
search_handler_uri वेबसाइटों के लिए, हैंडलर का यूआरएल जिसे सर्च क्वेरी मिलनी और हैंडल करनी चाहिए; ऐप्लिकेशन के लिए, आपके सर्च इंजन के लिए इंटेंट हैंडलर का यूआरआई जिसे क्वेरी हैंडल करनी चाहिए.
search_term_string

एक प्लेसहोल्डर स्ट्रिंग, जब उपयोगकर्ता खोज बॉक्स में "खोज" बटन पर क्लिक करता है, तो यह उसकी सर्च क्वेरी से बदल जाती है.

url

URL

खोजी जा रही साइट का यूआरएल बताता है. अपनी साइट के कैननिकल होम पेज पर सेट करें. उदाहरण के लिए: https://www.example.org

Search Console की मदद से, ज़्यादा बेहतर नतीजों (रिच रिज़ल्ट) पर नज़र रखना

Search Console एक ऐसा टूल है जिसकी मदद से, आप Google Search में अपने पेज की परफ़ॉर्मेंस पर नज़र रख सकते हैं. Google Search के नतीजों में अपनी साइट शामिल कराने लिए, आपको Search Console में साइन अप करने की ज़रूरत नहीं है. हालांकि, इससे आपको यह समझने में मदद मिलेगी कि Google आपकी साइट को कैसे देखता है. साथ ही, इसकी मदद से, आप साइट की परफ़ॉर्मेंस को भी बेहतर बना पाएंगे. हमारा सुझाव है कि आप इन मामलों में Search Console देखें:

  1. पहली बार स्ट्रक्चर्ड डेटा इस्तेमाल करने के बाद
  2. नए टेंप्लेट जारी करने या कोड को अपडेट करने के बाद
  3. समय-समय पर ट्रैफ़िक का विश्लेषण करना

पहली बार स्ट्रक्चर्ड डेटा इस्तेमाल करने के बाद

जब Google, आपके पेजों को इंडेक्स कर ले, तब ज़्यादा बेहतर नतीजे (रिच रिज़ल्ट) की स्थिति रिपोर्ट का इस्तेमाल करके, उन गड़बड़ियों को देखें जिन्हें ठीक करने की ज़रूरत है. आपको सही पेजों की संख्या में बढ़ोतरी दिखेगी और गड़बड़ियों या चेतावनियों में कोई बढ़ोतरी नहीं दिखेगी. अगर आपको स्ट्रक्चर्ड डेटा में गड़बड़ियां मिलती हैं, तो:

  1. गड़बड़ियां ठीक करें.
  2. लाइव यूआरएल की जांच करें और देखें कि गड़बड़ी ठीक हुई या नहीं.
  3. स्थिति रिपोर्ट का इस्तेमाल करके, पुष्टि करने का अनुरोध करें.

नए टेंप्लेट जारी करने या कोड को अपडेट करने के बाद

जब आप वेबसाइट में, कई या ज़रूरी बदलाव करते हैं, तब स्ट्रक्चर्ड डेटा की गड़बड़ियों और चेतावनियों में हुई बढ़ोतरी पर नज़र रखें.
  • अगर आपको गड़बड़ियों में बढ़ोतरी, दिखती है, तो हो सकता है कि आपने ऐसा नया टेंप्लेट जारी किया हो जो काम नहीं करता. इसके अलावा, यह भी हो सकता है कि आपकी साइट, मौजूदा टेंप्लेट से नए और खराब तरीके से इंटरैक्ट कर रही हो.
  • अगर आपको मान्य आइटम की संख्या में कमी दिखती है यानी वह गड़बड़ियों में बढ़ोतरी से मेल नहीं खाती, तो हो सकता है कि अब आप पेजों में स्ट्रक्चर्ड डेटा एम्बेड नहीं कर रहे हैं. गड़बड़ी की वजह जानने के लिए, यूआरएल जांचने वाले टूल का इस्तेमाल करें.

समय-समय पर ट्रैफ़िक का विश्लेषण करना

परफ़ॉर्मेंस रिपोर्ट का इस्तेमाल करके, Google Search से आने वाले ट्रैफ़िक का विश्लेषण करें. आपको डेटा से पता चलेगा कि आपका पेज Search में, रिच रिज़ल्ट के तौर पर कितनी बार दिखता है. साथ ही, यह भी पता चलेगा कि उयोगकर्ता उस पर कितनी बार क्लिक करते हैं और खोज के नतीजों में आपकी साइट के दिखने की औसत रैंक क्या है. आप इन नतीजों को Search Console API की मदद से, अपने-आप भी देख सकते हैं.

समस्या का हल

अगर आपको स्ट्रक्चर्ड डेटा का इस्तेमाल करने में कोई परेशानी आ रही है, तो ये रिसॉर्स आपकी मदद कर सकते हैं.